कब्‍ज़ और दस्‍त ठीक करने के घरेलू उपाय

भागदौड़ व तनाव भरी ज़िंदगी में कब्‍ज़ एक आम समस्‍या बनता जा रहा है। दूसरे शुद्ध पानी का अभाव इसमें चार चांद लगा रहा है। हर तीसरा-चौथा आदमी कब्‍ज़ से परेशान है। पेट साफ़ नहीं होता, बार-बार टॉयलेट जाना पड़ता है, गैस बनती है, सिर भारी रहता है, भूख नहीं लगती और लगातार कमज़ोरी आती जाती है। जब कोई चूर्ण खा लेंगे तो सुबह पेट साफ़ हो जाएगा, अगले दिन से फिर वही कहानी। इसके अलावा दस्‍त की भी यही कहानी है। कुछ दिन ठीक रहेगा और फिर चालू। बार-बार टॉयलेट जाने की मजबूरी। कब्‍ज़ और दस्‍त से निजात का बिल्‍कुल सस्‍ता व घरेलू उपाय है हमारे पास जिसे आज हम आपको देने जा रहे हैं।

कब्ज़ और दस्त

कब्‍ज़ और दस्‍त से निजात पाएं

कब्‍ज़

– कब्‍ज़ की सबसे अच्‍छी दवा है अजवाइन। यदि पेट साफ़ नहीं होता, बार-बार टॉयलेट जाना पड़ता है, खट्टी डकार आती है, सिर भारी रहता है, किसी काम में मन नहीं लगता, भूख नहीं लगती, आलस्‍य घेरे रहता है तो इन सबका एक कारण है पेट का साफ़ न होना। इसके लिए अजवाइन को गुड़ में मिलाकर चबाकर खाएं और ऊपर से गर्म पानी पी लें। यह पेट के कीड़ों को भी खत्‍म करेगा और पेट भी साफ़ करेगा। रात को सोते समय इसका सेवन कर लें तो सुबह पेट पूरी तरह साफ़ हो जाएगा।

– पेट साफ़ करने के लिए त्रिफला भी अचूक दवा है। रात को सोते समय एक चम्मच त्रिफला चूर्ण गुनगुने पानी के साथ लें, सुबह पेट साफ़ होगा।

दस्‍त

– यदि दस्‍त से परेशान हैं और बार-बार टॉयलेट जाना पड़ रहा है तो आधा कप कच्‍चा दूध में नींबू का रस डालकर तुरंत पी जाएं। यदि तुरंत नहीं पियेंगे तो दूध फट जाएगा, इसलिए दूध फटे इससे पहले उसे पी लें। यह एक ही खुराक लेनी चाहिए, इससे बिगड़ा हुआ दस्‍त भी ठीक हो जाता है।

– बेल का गूदा खाकर पानी पी लेने से भी दस्‍त रुक जाता है। यदि बेल का मौसम नहीं है तो बाजार में बेल के गूदे का पाउडर मिलता है, एक चम्‍मच पाउडर गुनगुने पानी के साथ लेने से दस्‍त रुक जाता है। बेल पेट के अन्‍य रोगों को दूर करने में भी सहायक है। मौसम में तो इसका नियमित सेवन करना चाहिए।

डायरिया

– यदि डायरिया से परेशान हैं तो अदरक वाली चाय पीना चाहिए। इससे पेट का दर्द कम होता है। साथ ही अदरक का रस, नींबू का रस व काली मिर्च का पाउडर पानी में मिलाकर पीने से तुरंत लाभ होता है।

– सेब व केला भी आपकी मदद कर सकते हैं। केला आंतों की गति को सही करता है। सेब व केला में पेक्टिन मिलता है जो दस्त की मात्रा कम करके डायरिया से निजात दिलाने में सहयोग करता है।

– डायरिया से परेशान हैं तो हर घंटे पर कम से कम एक लीटर पानी जरूर पीना चाहिए। इससे डिहाइड्रेशन नहीं होगा। साथ ही नमक का टुकड़ा चूसना चाहिए। नमक व पानी का घोल बनाकर भी पी सकते हैं।

कब्‍ज़ और दस्‍त के कारगर उपाय जानकर इन्हें अपने सोशल सर्कल में शेअर करें।

Previous articleअमरबेल के स्‍वास्‍थ्‍य लाभ
Next articleस्‍वास्‍थ्‍य का दुश्‍मन प्रोसेस्ड फ़ूड