मेरा प्यार अधूरा तो नहीं रह जायेगा

दोस्तों, जब हम जवानी की दहलीज़ पर होते हैं तो हमें प्यार न हो ऐसा थोड़े ही होता है। सभी को प्यार का एहसास अपनी बाँहों में भरने लगता है। लेकिन अपने प्यार और करियर को बैलेंस करके चलने में ही समझदारी है। इसलिए करियर से प्यार करने वाले बहुत से प्रेमियों की कहानी अधूरी रह जाती है। बहुत कम ख़ुशनसीब होते हैं, जिनको उनका प्यार मिलता है। कुछ तो ऐसे होते हैं जो इसी सवाल में उलझ के रह जाते हैं कि मेरा प्यार अधूरा तो नहीं रह जायेगा। ऐसे ही हमारे एक रीडर हैं जो जानना चाहते हैं कि क्या उन्हें अपने सपनों की रानी मिलेगी या नहीं।

मेरे दोस्त आप घबराइए नहीं हमारे रहते आपकी प्रेम कहनी अधूरी रह जाए, ऐसा कुछ नहीं होगा। हमारी पूरी कोशिश रहेगी कि हम इस मामले में आपकी पूरी मदद करें। चलिए हम अपने दोस्त के इस सवाल का जवाब देते हैं और आप सभी से गुज़ारिश है कि आप भी हमारी और हमारे दोस्त की मदद करें। आप अपने बेस्ट सुझाव कमेंट बॉक्स में कमेंट करके दे सकते हैं। ते अब सीधे मुद्दे पर आते हैं…

मेरा प्यार अधूरा तो नहीं रह जायेगा

सवाल – मेरा प्यार अधूरा तो नहीं रह जायेगा

एक लड़की है जिसे मैं 3 साल से प्यार करता हूँ, वो मुझसे 4 साल छोटी है। जब मैंने उससे प्यार किया तो वो 10वीं क्लास में पढ़ रही थी। हमारी कहनी की शुरूआत कुछ इस तरह से हुई।

पहले जब वो मुझे देखती थी तो स्माइल करती थी और मैं भी करता था। वो मुझे अच्छी लगती थी और मैं अपने दिल की बात उससे कहना भी चाहता था। मेरे दोस्त की बहन जो उससे एक क्लास पीछे पढ़ती थी, मैंने एक लेटर में अपने दिल की सारी बात लिखकर उसे देने को कहा। ग़लती से वो लेटर उसके टीचर के हाथ लग गया और उसके लिए उसको पनिशमेंट भी मिली। फिर उसके स्कूल के सभी को ये बात पता चल गई और क्लास के सभी स्टुडेन्ट्स उसको मेरे नाम से चिढ़ाने लगे। हम गाँव में रहते हैं और मैं नहीं चाहता कि वो मेरी वजह से बदनाम हो, इसलिए मैंने ऐसा कुछ भी करना बंद कर दिया जिससे उसकी कोई बदनामी हो जैसे उसका पीछा करना और रास्ते में उसका वेट करना आदि सब बंद कर दिया।

एक साल बाद उसे जब देखा तो वो फिर से पहले की तरह मुझे देखने लगी तो मैंने इस बार ख़ुद बात करने की ठान ली और मौका ढूढ़ता रहा। एक दिन मैंने उसके साथ उसकी चचेरी बहन को देखा जो कि मेरे से 1 क्लास पीछे थी। हमने एक ही गाँव में पढ़ाई की लेकिन हममें कभी बात नहीं हुई जैसे कि हम दोनों एक दूसरे के लिए अजनबी हों। वो शहर में 5 साल पढ़ाई करके आई थी। तो मैंने सोचा कि उसकी सिस्टर के सामने उससे बात करना बेटर होगा, और वो जब भी बाहर निकलती थी तो अपने सिस्टर के साथ ही निकलती थी। और हाँ मैं जब भी उसे देखने की कोशिश करता तो उसकी सिस्टर स्माइल करने लगती है। लेकिन मेरी वाली मुझे इग्नोर करने लगती थी।

कुछ दिन ऐसे ही चला एक दिन अच्छा मौका पाके मैंने उससे बात करने की कोशिश की लेकिन वो मुझे देखके वहाँ से चली गई और अभी भी मुझे वो इग्नोर करती है। जब भी उसके क़रीब जाने कि कोशिश करता हूँ तो वो मुझसे दूर भागने लगती है। मैं ये अच्छी तरह जानता हूँ कि अभी उसका कोई ब्वायफ्रेंड भी नहीं है और उसकी बहन से मैं ये सब बातें कह भी नहीं सकता क्योंकि मुझे डर है कि शायद वो ये बातें जाके अपने घर पर भी कह सकती है और मेरे दोस्त की बहन जिसके हाथ से मैंने लेटर भेजा था उसकी भी कोई हेल्प नहीं ले सकता था क्योंकि अभी वो बाहर रहकर पढ़ाई करती है और उससे मेरा कोई कॉन्टेक्ट भी नहीं है।

अब आप बताओ मैं क्या करूँ? अब मुझे ये लगने लगा है कि मैं उसे दिल से चाहता हूँ, यही मेरी ग़लती है। शायद भगवान ने मेरे नसीब में उसका प्यार ही नहीं लिखा है। मैं जितना भी उसके क़रीब जाने कि कोशिश करता हूँ वो मुझसे उतना ही दूर जाती है। मैं क्या करूँ? मुझे कुछ भी समझ में नहीं आ रहा है, कहीं मेरा प्यार अधूरा तो नहीं रह जाएगा? प्लीज़ मेरी हेल्प करो प्लीज़…

लव गुरु का जवाब

मेरे प्यारे दोस्त मेरा दिल आपके दर्द से वाकिफ़ है। यार आपकी तक़लीफ़ ने दिल को झकझोर कर रख दिया। आप ख़ुद पर यक़ीन रखिए और मेरा प्यार अधूरा तो नहीं रह जायेगा, सबसे पहले ऐसा सोचना छोड़ दीजिए। इसके बाद आप ऐसा करो कैसे भी करके उस लड़की का मोबाइल नम्बर पता करो। अगर आपको उसका नम्बर मिल जाता है तो बात करने में आसानी हो जायेगी। और बात हो गई तो वो आपको फ़ीलिंग से वाकिफ़ हो जायेगी। इससे बात बनने के चांसेज ज़्यादा हो जायेगें। अब आप इस काम में लग जाओ किसी भी तरह उसक नम्बर पता करो।

चलो मान लेते हैं कि उसके पास मोबाइल नहीं हो या आपको उसका नम्बर नहीं मिल पाता है तो इसके अलावा और भी रास्ते हैं। वो स्कूल या कॉलेज तो ज़रूर जाती होगी आप कैसे भी करके रास्ते में उससे मिलने की लगातार कोशिश करो। उसे ये एहसास होना चाहिए कि आप उसके ही पीछे हो और वो ये सोचने पे मज़बूर हो जाए कि शायद कुछ तो है। उसे इस बात का एहसास होना आपके लिए प्लस प्वाइंट होगा। कॉलेज जाते या कॉलेज से बाहर निकलते वक़्त हमेशा उसे हल्की सी स्माइल के साथ देखते रहो और अगर लड़की पलट कर स्माइल करती है तो समझो प्यार में ग्रीन सिग्नल मिलना शुरू हो गया है। यक़ीनन आपको सफलता मिलेगी। याद रखे जब आपकी बात होने लगे तो आप मेरे बेस्ट टिप्स में लड़की को प्रपोज़ कैसे करें ज़रूर पढ़ें।

girl waiting

इन सबक कोशिशों के बावजूद भी अगर सफलता आपके क़दम नहीं चूमती है तो एक और लास्ट तरीक़ा बचा है – थोड़ा रिस्की है पर क्या करें प्यार और जंग में सब ज़ायज़ है। आपको उसकी चचेरी बहन को अपने फ़ेवर में करना होगा। चूँकि वो शहर में पढ़कर आई है और वह आपके बिहैवियर और तैर तरीक़ों से वाकिफ़ भी है, इसलिए आपकी फ़ीलिंग्स की क़दर करेगी। आप उससे मिलने के बाद उससे अपनी पूरी कहानी पूरी शिद्दत से कहना। उसके रिप्लाई से ही आपको पता चल जाएगा कि वो आपकी हेल्प करेगी या नहीं। इतनी कोशिशों के बाद वो यक़ीनन आपकी मदद करेगी।

मेरे प्यारे दोस्त, मुझे पक्का यक़ीन है आपको आपका प्यार मिलेगा। मेरा दी हुई सलाह आपके काम आये, मैं इसकी दुआ करूँगा और आपको आपका आपका प्यार ज़रूर मिलेगा। आप भी मेरा प्यार अधूरा तो नहीं रह जायेगा, ऐसे नेगटिव सवालों को दिमाग़ से निकाल दो। ख़ैर जो भी हो आप मुझे बताना ज़रूर क्योंकि मैं भी जानना चाहता हूँ कि हुआ क्या?