हम सभी तपती गर्मियों में मॉनसून के मौसम का बेसब्री से इंतज़ार हैं ताकि गर्मी की तपिश से थोड़ी तो राहत मिले। मॉनसून जितना सुहाना और रोमांटिक है वहीं यह सर्दी, जुकाम, बुखार, डायरिया, डेंगू, मलेरिया, निमोनिया जैसी बीमारियों के फलने फूलने का भी समय होता है।

आयुर्वेद में कई ऐसी जड़ी बूटियाँ हैं जो आपको मॉनसून में फ़िटनेस दिलाने और आपके इम्यून सिस्टम को मज़बूत बनाने में मददगार होती हैं। आइए इनके बारे में जानकारी हासिल करें।

मॉनसून के मौसम में फ़िटनेस

मॉनसून के मौसम में फ़िटनेस का फ़ंडा

1. दालचीनी

आधा चम्मच पिसी हुई दालचीनी को शहद के साथ मिलाकर दिन में दो बार खाने से सर्दी, जुकाम और गले की ख़राश में आराम मिलता है।

2. नीम की पत्तियाँ

अबकि मॉनसून के मौसम में 10 नई पत्तियाँ पानी में उबालकर दिन में दो से तीन बार पीकर देखिए, इससे आपका इम्यून सिस्टम बहुत मज़बूत हो जाएगा और बरसात की बीमारियाँ भी नहीं लगेंगी।

3. लहसुन

लहसुन के एंटीबैक्टीरियल गुण का लाभ लेने के लिए आप लहसुन की फलियाँ छीलकर उन्हें कच्चा ही खायें इससे ठंड और बुखार में बड़ा आराम मिलेगा।

4. अदरक

पानी में कूचकर अदरक का छोटा टुकड़ा उबाल लीजिए, इसे शहद और नींबू के साथ मिलाकर चाय की तरह सेवन करने से मॉनसून के रोग पीछे नहीं पड़ते हैं।

5. शहद

एक चम्मच शहद और नींबू का रस हल्के गुनगुने पानी में डालकर पिएँ तो इससे कफ से निजात मिलेगी। ऐसा दिन में एक बार करना पर्याप्त है।

6. हल्दी

हल्दी में एंटी बैक्टीरियल और एंटी वायरल गुण होते हैं, अगर आप एक छोटा हल्दी पाउडर गुनगुने पानी में मिलाकर पिएँ इम्यूनिटी बढ़ जाती है।

7. चमेली के फूल की पंखुड़ियाँ

मॉनसून के मौसम में सर्दी जुकाम से बचना है तो चमेली के फूल की पंखुड़ियाँ को मसलकर उसका एक चम्मच रस तैयार कीजिए और उसमें शहद मिलाकर सेवन कीजिए। ऐसा दिन में दो बार करना पर्याप्त है।

8. तुलसी

तुलसी के एंटी बैक्टीरियल और एंटी फ़ंगल गुण गले की खराश, बुखार और मलेरिया में बहुत फ़ायदेमंद होते हैं। तुलसी की 12-15 पत्तियाँ पानी में उबाल कर चाय की तरह पीने से बड़ा लाभ मिलता है।