आज के समय लड़का हो या लड़की हर कोई एक परफ़ेक्ट लाइफ़ पार्टनर चाहता है। इसकी ख़ास वजह लगातार रिश्तों का टूटना और बिखरना है। आज युवा वर्ग रिश्तों में इनसिक्योरिटी और बाद में होने वाली कई समस्याओं से बचने के लिए सोशल मीडिया का उपयोग परफ़ेक्ट पार्टनर की तलाश में करने में करने लगा है। कभी कभी इन साइट्स के माध्यम से आपको एक अच्छा लाइफ़ पर्टनर मिल जाता है। लेकिन जिस तरह से इन साइट्स का उपयोग बढ़ता जा रहा है लोग इन साइट्स का दुरुपयोग करने लगे हैं। यहां तक कि आज के समय में बढ़ने वाले सबसे ज़्यादा क्राइम की वजह भी यह बनता जा रहा है। तो कहीं आप भी एक परफ़ेक्ट लाइफ़ पार्टनर की चाहत में इन साइट्स का उपयोग कर किसी क्राइम का शिकार न हो जायें। तो आइए जानते हैं कि आख़िर क्यों लोग सोशल मीडिया पर एक परफ़ेक्ट लाइफ़ पार्टनर की तलाश करने लगे हैं।

सोशल मीडिया पर साथी की तलाश

1. सोशल मीडिया का बढ़ता प्रयोग

विशेषज्ञों के अनुसार आज के समय में चाहे लड़का हो या लड़की, दोनों एक अच्छे लाइफ़ पार्टनर चाहते हैं और इस तलाश में वे कई ग़लत तरीक़े भी अपनाने लगे हैं। इसके लिए वे स्टाकिंग और फ़ेसबुक अकाउंट तक की हेल्प लेने लगे हैं। वे अपना मक़सद पूरा करने के लिए एक से अधिक लोगों के साथ डेटिंग करते हैं। उनके साथ समय व्यतीत करते हैं। इन सब कारणों से सोशल मीडिया का यूज़ धड़ल्ले से होने लगा है। जिसके कारण लोग एक दूसरे को यूज़ और फिर चिटिंग करते हैं, जिसके कारण लगातार लोग ब्रेकअप के शिकार हो रहे हैं। ब्रेकअप और इनसे जुड़ी कई अन्य समस्याओं के कारण लोग या तो सबसे ज़्यादा अकेलेपन का शिकार हो रहें हैं या फिर मन में बदले की भावना होने के कारण ग़लत कदम उठाने लगते हैं।

एक परफ़ेक्ट की तलाश करना ग़लत नहीं है। लेकिन कहीं आप इस तलाश में किसी ग़लत जगह फँस न जाएँ इसलिए इन साइट्स का उपयोग करते समय विशेष सावधानी बरतें।

2. रिलेशनशिप में इनसिक्योरिटी

एक सर्वे के मुताबिक लड़कियाँ ज़्यादा तादाद में सोशल मीडिया का उपयोग करती हैं। वर्तमान समय सम्बंधों में बढ़ती हुई इनसिक्योंरिटी इसकी सबसे ख़ास वजह है। जिस कारण से लड़कियाँ सोशल मीडिया के प्रयोग के लिए आकर्षित हुई हैं। रिलेशनशिप ब्रेक होने पर दिल टूटने का दर्द बहुत अकेलापना देता है। मामला ज़्यादा बिगड़ जाए तो फिर कोर्ट के टिपिकल प्रोसिजर से गुज़रना भी बहुत मुश्किल और तक़लीफ़देह होता है। इन सारी मुसीबतों से बचने के लिए लड़कियों ने सोशल मीडिया को एक मीटिंग और डेटिंग प्वाइंट बना लिया है।

3. एक अच्छे पार्टनर की तलाश

समय समय पर सुनाई देने वाली ख़बरों और अपने आस पास के लोगों को हुए निगेटिव अनुभवों के कारण सम्बंधों में असुरक्षा की भावना पनप सकती है। इसलिए अधिकांश लड़कियाँ ग़लत पार्टनर के साथ रहने की अकेले रहना ज़्यादा पसंद करती हैं। कुछ लड़कियाँ अपने इस अकेलेपन को कम करने के लिए सोशल मीडिया से जुड़ती हैं और अच्छे पार्टनर की तलाश करने लगती हैं। ऐसी भी गर्ल्स हैं जो मौज-मस्ती के लिए भी सोशल नेटवर्किंग का प्रयोग करती हैं। बुरा मत मानिए गर्ल्स ही नहीं बल्कि बहुत से ब्यॉज़ भी यही करते हैं।

यूँ तो आपको अपना जीवन साथी कभी भी कहीं भी मिल सकता है। लेकिन सोशल मीडिया को ही एक मात्र ज़रिया मान बैठना ग़लत साबित हो सकता है। इसलिए आप जब जीवन साथी चुनें तब अपने घरवालों और दोस्तों से मशविरा ज़रूर करें। हो सकता है उनका अनुभव आप के काम आ जाए और आपकी तलाश पूरी हो जाए।मीडिया