वेज फ्राइड राइस

वेज फ्राइड राइस खाने में बड़ा स्वादिष्ट होता है। इसको बनाने में उबले हुए चावल के साथ साथ कई तरह की सब्जियों का उपयोग किया है। इसका स्वाद बढ़ाने के लिए सोया सॉस और चिली सॉस भी डाल सकते हैं। इसका स्वाद बच्चों से लेकर बड़ों तक सभी पसंद करते हैं। फ्राइड राइस बनाने के लिए खिले खिले चावल पकाने चाहिए। इसके लिए चावल पकाते समय इसमें कुछ बूंद नींबू रस डाल दें। आइए जल्दी से कलरफ़ुल वेज फ्राइड राइस बनाना सीखें।

3 लोगों के लिए वेज फ्राइड राइस बनाने में लगभग 30 मिनट का समय लगेगा।

वेज फ्राइड राइस
Vegetable Fried Rice Recipe in Hindi

वेज फ्राइड राइस रेसपी । Veg Fried Rice Recipe

आवश्यक सामग्री । Ingredients

250 ग्राम उबले हुए बासमती चावल
1 प्याज पतला और लंबा बारीक़ कटा हुआ
1 हरी मिर्च कटी हुई
1 चम्मच बारीक़ कटा हुआ अदरक
1 चम्मच बारीक़ कटा हुआ लहसुन
1 छोटा शिमलामिर्च पतला और लम्बा कटा हुआ
50 ग्राम हरे मटर के दाने
1 बारीक़ कटी हुई गाजर
1/2 बारीक़ कटी हुई गोभी
2 डंठल बारीक़ कटी हुई हरी प्याज
25 ग्राम बारीक़ कटा हुआ फ्रेंच बीन्स
1 चम्मच सोया सॉस
1 चम्मच चिली सॉस
1 चुटकी काली मिर्च पाउडर
2 चम्मच तेल
स्वादानुसार नमक

वेज फ्राइड राइस बनाने का तरीका

– एक कढ़ाही में गरम तेल में मध्यम आंच पर कटा हुआ अदरक और लहसुन डालकर 1 मिनट के लिए फ़्राई कर लें।

– अब इसमें बारीक़ कटा हुआ प्याज और बारीक़ कटी हुई हरी मिर्च डालकर 5 मिनट के लिए और फ़्राई कर लें।

– फिर इसमें कटी हुई गाजर, गोभी, हरी प्याज, शिमला मिर्च, हरी मटर और फ्रेंच बीन्स डालकर 5 मिनट के लिए चम्मच से लगातार चलाते हुए फ़्राई करते रहें।

– ध्यान रहें कि सब्जियों को ज़्यादा पकाना नहीं है बल्कि उन्हें थोड़ा करारा बनाना है।

– सब्जियों के फ़्राई हो जाने के बाद इसमें काली मिर्च पाउडर, सोया सॉस, चिली सॉस और नमक डालकर चम्मच से मिला लें।

– फिर उबले हुए चावल डालकर चम्मच से धीरे से मिला लें।

– एक बात का ध्यान रहे कि चावल को चम्मच से बहुत ज़्यादा नहीं मिलाना है वरना चावल के दाने टूट सकते हैं।

– अब इसे सिर्फ़ 3 मिनट के लिए मध्यम आंच पर पकने दें और फिर गैस बंद करें।

परोसने का तरीका

– वेज फ्राइड राइस को एक कटोरे में परोस लें।

– अब आप इसे चिली पनीर या मंचूरियन ग्रेवी के साथ परोसें।

Keywords – Vegetable Fried Recipe In Hindi, Indo Chinese Recipe, Fast Food Recipe

Previous articleपारिजात के औषधीय लाभ
Next articleनवजात शिशु के रोने का सही कारण पहचानें