स्‍वास्‍थ्‍य का संबंध केवल दवाओं व परहेज़ से नहीं होता है। दिनचर्या का भी इसमें बहुत योगदान होता है। विशेषकर कुछ ऐसे प्रयोग हैं जिन्‍हें आप टोटका कह सकते हैं लेकिन ये आपको अच्छा स्वास्थ्य दे सकते हैं। न तो ये अंधविश्‍वास हैं और न ही इनका कोई दुष्‍प्रभाव है। आदि काल से ही इन प्रयोगों को लोग करते आ रहे हैं। पहले के समय में लोग बहुत स्‍वस्‍थ रहते थे।

हालांकि प्रथम दृष्‍टया देखने से यह टोटका लगेगा लेकिन है बहुत काम की। कुछ लोग इसे अंधविश्‍वास मानकर छोड़ देते हैं। इस समय वैज्ञानिक युग में विशेषकर नई पीढ़ी को इन बातों में विश्‍वास नहीं होता है और वे इनसे बचने की कोशिश करती है। लेकिन कुछ ऐसे प्रयोग आज इस पोस्‍ट के ज़रिये बताने जा रहे हैं तो आपको पूरी तरह से स्‍वस्‍थ रखने में कारगर हैं तथा इसमें कोई परेशानी भी नहीं होगी। आसानी से इनका प्रयोग किया जा सकता है।

अच्छा स्वास्थ्य

अच्छा स्वास्थ्य पाने के उपाय

– रात को किसी लोटे या गिलास में पानी भरकर रख दें। सुबह उठकर उसे पी लें और पानी पीने के बाद उस बर्तन को उल्‍टा करके रख दें। माना जाता है कि इससे यकृत संबंधित परेशानियां दूर हो जाती हैं और इससे संबंधित परेशानी कभी होती नहीं तथा हमेशा उत्तम और अच्छा स्वास्थ्य बना रहता है। कुछ ही दिन के इस प्रयोग से अद्भुत परिणाम देखने को मिलते हैं।

– रात को सोते समय कमरे में कपूर जलाने से किसी तरह के ख़राब सपने या बीमारियों का आगमन नहीं होता है। रात को अच्‍छी नींद आती है और सुबह मन-मस्तिष्‍क फ्रेश रहता है। पितृदोष का नाश होता है तथा घर में शांति बनी रहती है।

– रोज़ घर में घी का दीपक जलाने से घर में ही शुभता नहीं होती बल्कि पूरे परिवार का स्‍वास्‍थ्‍य भी बेहतर रहता है। दीपक जलाते समय इस बात का ध्‍यान रखना चाहिए कि उसकी लौ पूर्व या दक्षिण की ओर हो। जब दीपक जलाएं तो मध्‍य में फूलदार बाती लगाना चाहिए, इससे शुभता व स्‍वास्‍थ्‍य में वृद्धि होती है।

Totke for Good Health…

– एक अद्भुत टोटका है जिसका परिणाम प्रयोग करने के बाद नज़र आएगा। यदि घर में कोई बीमार है तो धान कूटने वाला मूसल और झाडू रोगी के ऊपर से उतार कर उसके सिरहाने रख दें। आश्‍चर्यजनक रूप से अच्छा स्वास्थ्य प्राप्त करते देखा गया है। दवाएं तेज़ी से कार्य करने लगती हैं।

– मंदिरों में गुप्‍त दान करने से भी रोगी रोग मुक्‍त होते देखे गए हैं। दान करते समय इतना ध्‍यान देना चाहिए कि दान वाली वस्‍तुएं काली न हों और दान सोमवार को करना चाहिए।

– कपास के पांच फूल लें रऔ रविवार की शाम को आधा कप पानी में भिगो दें। सुबह उठकर फूल निकालकर फेंक दें और पानी पी जाएं। फूल भिगोने के लिए रोज़ एक ही पात्र का प्रयोग करना चाहिए। पात्र बदलना नहीं चाहिए।

– बीमार व्‍यक्ति को मधु में चंदन मिलाकर चटाने से भी लाभ होता है।

– रोगी का कपड़ा या पहनने वाली कोई वस्‍तु उसके सिर पर सात बार ओइछ कर यानी क्‍लाकवाइज घुमाकर गुप्‍त दान कर देने से भी स्‍वास्‍थ्‍य में शीघ्रता से सुधार होता है। यह प्रयोग रोग मुक्‍त होने तक सप्‍ताह में एक बार अवश्‍य करना चाहिए।