कभी कभी हमे अपने आस पास कई ख़ुश्बुओं की महक आती है और उस ख़ुश्बू की ओर हमारा ध्यान स्वतः ही खिंचा चला जाता है। उस वक़्त हम चाहें जितने ही तनाव में हों लेकिन हम उस सुंगध में खो जाते हैं। बारिश की बूंदें जब मिट्टी पर पड़ती हैं तब हम अपनी आंखें बंद करके लम्बी सांस लेते हैं ताकि उसका पूरा आनंद ले सकें, ये हम नहीं करते बल्कि हमारा मन हमसे करवाता है, चाहे उस वक़्त भी हम कितने तनाव में क्यों न हो। आइए जानते हैं कि ख़ुशबू का सेहत पर असर कैसे होता है? आख़िर क्यों किसी ख़ास ख़ुश्बू की ओर हमारा ध्यान खिंचता है और हम तनाव मुक्त महसूस करते हैं।

वैज्ञानिक शोध के अनुसार इन ख़ुश्बुओं का हमारी सेहत पर सकारात्मक असर पड़ता है। जिससे हम तनाव मुक्त महसूस करते हैं। हर एक ख़ुश्बू के पीछे विज्ञान है जो आपकी मानसिक सेहत से जुड़ा है। तो आज हम आपको ख़ुश्बुओं से जुड़े कुछ ऐसे ही तथ्य बताने जा रहे हैं, जो हमारी सेहत सकारात्मक असर डालते हैं…

ख़ुशबू का सेहत से सम्बंध

1. लैवेंडर की सुगंध

ख़ुशबू का सेहत पर असर

लैवेंडर की ख़ुशबू का सेहत पर असर तो बेमिसाल है, यह चिड़चिड़ाहट, अनिद्रा या निराशा जैसी समस्याओं को दूर करने में सक्षम है। लेवेंडर की ताज़ा सुगंध शरीर को उत्तेजित करने के साथ ही उसे आराम भी प्रदान करती है इसलिए लम्बे समय से लेवेंडर का इस्तेमाल चित्त को शांत करने के लिए किया जाता रहा है। लैवेंडर के प्रयोग से प्रेम भावना बढ़ती है और भावनात्मक सम्बंध गहरे होते हैं। एक शोध के मुताबिक लैवेंडर के तेल में कुछ ऐसे प्राकृतिक अर्क पाये जाते हैं जो अच्छी नींद लेने में मदद करते हैं। लैवेंडर के तेल से की गयी थेरेपी से व्यक्ति ऊर्जावान भी महसूस करता है। इसकी सुगंध के एंटी बैक्टीरियल गुण कई रोगों में लाभकारी होते हैं।

2. जैस्मिन की सुगंध

बेले का फूल जैस्मिन का फूल

गुलाब, चमेली और जैस्मिन की सुगंध हर किसी का ध्यान अपनी ओर आकर्षित कर लेती है। लेकिन जैस्मिन की सुगंध व्यक्ति में उम्मीद व आत्मविश्वास का संचार भी करती है। इस इसकी ख़ुशबू का सेहत पर सकारात्मक असर पड़ता है, जिससे आपका मूड अच्छा रहता है। साथ ही आपके शरीर में ऊर्जा और संतुलन भी आ जाता है। यदि आपको सुबह उठते समय थकान लगें, तो रात में सोने के समय जैस्मिन का फूल सूँघ कर सोयें और सुबह उठकर आप बेहद रिलैक्स फ़ील करेंगें। यह अवसाद का अच्छा इलाज है और यह आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को भी मज़बूत करती है।

3. गुलाब की सुगंध

गुलाब की सुगंध लेने के डिप्रेशन दूर होता है और महिलाओं में एस्ट्रोजन – एक सेक्स हार्मोन में स्थिरता आती है, जिससे उन्हें माँ बनने में आसानी होती है।

4. जिरेनियम की सुगंध

पुराने समय से ही इसे घर के आस पास उगाया जाता रहा है। डिप्रेशन, जल्दी क्रोध आना और उच्च रक्तचाप की समस्याओं में जिरेनियम की ख़ुशबू बहुत लाभकारी होती है। यह पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाकर उनकी सेक्स प्रति इच्छा जाग्रत करती है।

5. लौंग की सुगंध

आपको यह सुनकर चौंकना नहीं चाहिए कि लौंग भी एक फूल ही होती है। इसकी ख़ुशबू में एंटी बैक्टीरियल और एंटी वायरल गुण होते हैं जिससे सिर दर्द, थकान, चक्कर आना, बेहोशी और पेट में ऐंठन जैसी प्रॉब्लम का हल होता है।

6. लिली की सुगंध

लिली की ख़ुशबू आदमियों में शुक्राणुओं को बढ़ाती है जिससे गर्भाधान में सहायता मिलती है। लिली आपके शरीर नकारात्मक प्रभाव भी डालती है, इसके लिए इसके प्रयोग के लिए विशेषज्ञ सलाह ज़रूरी है। इसके कुछ साइड इफ़ेक्ट है – लम्बे समय तक सिर दर्द, हृदय और केंद्रीय तंत्रिका तंत्र पर प्रतिकूल प्रभाव; यह आपकी धड़कन कम कर सकती है।

7. बबूना की सुंगध

कैमोमाइल या बबूना की ख़ुशबू सूजन, बैक्टीरिया और वायरस से लड़ने की क्षमता देती है। अगर किसी को लम्बे समय से डिप्रेशन की समस्या हो तो फ़ायदा मिलता है। साथ ही उच्च रक्तचाप वाले मरीज़ों के लिए भी गुणकारी होती है।

इस तरह ख़ुशबू का सेहत से गहरा सम्बंध है, अत: अपने घर के वातावरण को इन ख़ुश्बुओं से महकाएं और घर के माहौल को सकारात्मकता प्रदान करें।

भाग १ यहाँ देखें भाग २ यहाँ देखें

Tags – Fragrance Secrets, Healthy Fragrance, Khushboo Ke Labh, Khushboo Ke Fayde, ख़ुश्बू के लाभ , ख़ुश्बू के फ़ायदे , ख़ुश्बू और सेहत , ख़ुशबू का सेहत पर असर , ख़ुशबू का स्वास्थ्य पर प्रभाव , सुगंध का सेहत पर पर असर , सुगंध का स्वास्थ्य पर प्रभाव

loading...