ईनो बनाने की घरेलू विधि

भागदौड़ व तनाव भरी ज़िंदगी में कब्‍ज़ की समस्‍या आम है। कहते हैं कि तीन तरह के दरिद्र होते हैं। पहला वह जिसके पास न तो खाने को है और न वह खाता है। दूसरे नंबर पर वे आते हैं जिनके पास खाने तो है लेकिन वे खाते नहीं। तीसरे व निक्रिष्‍ट कोटि के दरिद्र वे हैं जिनके पास खाने को है और खाते भी हैं लेकिन पचता नहीं है। दिन भर खट्टी डकार, गैस, कब्‍ज़ से परेशान रहते हैं। धीरे-धीरे अनिद्रा की बीमारी उन्‍हें घेर लेती है। पेट साफ़ न होने से दिन भर थकान महससू होगी, काम में मन नहीं लगेगा। हमेशा आराम करने का मन करेगा। इसमें ईनो बड़े काम की औषधि है। यह पेट का साफ़ कर देता है और खाना न पचने से होने वाली तमाम बीमारियों में आराम मिल जाता है। लेकिन यदि आप बाज़ार से ईनो लेते हैं तो काफ़ी महंगा पड़ता है। इसे बड़ी आसानी से घर में तैयार किया जा सकता है।

यह जानकार आप चौंकेंगे कि बाज़ार में 80-85 रुपये में बिकने वाली ईनो की सौ ग्राम शीशी में कुल लगभग 8 रुपये मूल्‍य की सामग्री होती है। इसमें लगभग 45 ग्राम साइट्रिक एसिड व 55 ग्राम मीठा सोडा होता जिसका मूल्‍य लगभग आठ रुपये है। 5 रुपये का साइट्रिक एसिड व 3 रुपये का मीठा सोडा।

[recipe title=”घरेलू ईनो” servings=”3-4″ time=”5min” difficulty=”Medium” image=”https://lifestyletips.in/wp-content/uploads/2016/06/gharelu-eno-recipe.jpg” description=”बाज़ार में बिकने वाले मँहगे ईनो की बजाय घर पर बना सस्ता घरेलू ईनो बहुत कारगर है। इसे आप बड़ी आसानी से बना सकते हैं, इसके लिए बहुत विशेष सामग्री नहीं चाहिए।” print=”false”]

घरेलू ईनो रेसपी

Home made Eno recipe in Hindi

[recipe-ingredients title=”आवश्यक सामग्री”]
– 1 नींबू
– चुटकी भर नमक
– 1/2 चम्मच मीठा सोडा
[/recipe-ingredients]

[recipe-directions title=”बनाने की विधि”]
1. एक गिलास पानी में एक नींबू का रस निचोड़ लें।
2. इसमें एक चुटकी नमक व थोड़ा सा मीठा सोडा मिलाएं। पीने के लिए घरेलू ईनो तैयार है।
[/recipe-directions]
[/recipe]

इसका स्वाद आपको बेहद पसंद आयेगा और साथ ही यक़ीन मानिए यह बाज़ार में बिकने वाले महंगे ENO से कम काम नहीं करेगा।

इस स्वास्थ्यवर्धक ईनो को घर पर बनाकर लाभ उठाएं और अपने मित्रों के साथ सोशल मीडिया पर भी शेअर करें जिससे वे भी इसका लाभ ले सकें।

Previous articleसनाय अनेक बीमारियों की औषधि
Next articleएयर कंडीशनर के लगातार उपयोग से नुकसान