हिंदू मान्यताओं से जुड़े वैज्ञानिक तर्क एवं तथ्य

2385

हिंदू मान्यताओं को भारतीय ही नहीं बल्कि विश्वभर में अनेक लोग अनुसरण करते हैं। नमस्कार करना, बड़ों का सम्मान करना, पैर छूना और व्रत करना कुछ आम मान्यताएँ हैं। हमारे बड़े सदैव हमसे कहते हैं कि हमें अपने से बड़े का आदर करना चाहिए। उनके चरण स्पर्श करने चाहिए। उनसे हाथ जोड़कर नमस्ते करना चाहिए। हमें सदैव अपने से बड़ों का मान सम्मान करना चाहिए। हमारे आस पास ऐसी कई मान्यताएँ हैं जिनको मानने के लिए हमारे बड़े कहते हैं। लेकिन इनके पीछे छिपे वैज्ञानिक तर्क से अनभिज्ञ होते हैं। हिंदू मान्यताओं से जुड़े कुछ वैज्ञानिक रहस्य हैं जिन्हें आज हम आपसे साझा करने जा रहे हैं ताकि इन मान्यताओं के पीछे छिपे रहस्य को जानकर इस ज्ञान से आप लाभान्वित हो सकें।

हिंदू मान्यताओं से जुड़े वैज्ञानिक तथ्य

हिंदू मान्यताओं के वैज्ञानिक तर्क

 

१. हाथ जोड़कर नमस्ते करना

मान्यता: जब किसी अपने से बड़ों से मिलते हैं तो उनको नमस्ते कहते हैं जिससे उनका आशीर्वाद प्राप्त होता है।

वैज्ञानिक तर्क: जब सभी उंगलियों के शीर्ष एक दूसरे के संपर्क में आते हैं जिससे उनपर दबाव पड़ता है, एक्यूप्रेशर के कारण उसका सीधा असर हमारी आँख, कान और मस्तिष्क पर होता है। ताकि सामने वाले व्यक्ति को हम याद कर सकें। एक वैज्ञानिक तर्क यह भी है कि अगर हम हाथ मिलाते हैं तो सामने वाले के कीटाणु के सम्पर्क में आते हैं। अगर नमस्ते करते हैं तो उसके शरीर के कीटाणु हमारे शरीर तक नहीं पहुँच पाते हैं।

२. चरण स्पर्श करना

मान्यता: हमें अपनों से बड़ों के पैर स्पर्श करने चाहिए, ताकि हमें उनके आशीर्वाद प्राप्त हो और बच्चे सदैव अपने से बड़ों का आदर करना सीखें।

वैज्ञानिक तर्क: मस्तिष्क से निकले वाली ऊर्जा हाथों और पैरों से होते हुए एक चक्र पूरा करती है। इसे कॉस्मिक एनर्जी का प्रवाह कहते हैं, इसमें दो प्रकार से ऊर्जा का प्रवाह होता है। यह ऊर्जा तो बड़े के पैरों से होते हुए छोटे के हाथों तक या फिर छोटे से बड़े के पैरों तक पहुँचती है।

३. भूमि पर बैठकर भोजन करना

मान्यता: हमारी संस्कृति के अनुसार भूमि पर बैठकर भोजन करना अच्छा माना जाता है।

वैज्ञानिक तर्क: पलथी मारकर बैठना एक प्रकार का योग आसान है। इस स्तिथि में बैठने से मस्तिष्क शांत रहता है। अगर भोजन करते समय मन शांत हो तो पाचन क्रिया अच्छी होती है।

४. भोजन के प्रारम्भ में तीखा और अंत मीठा खाना

मान्यता: घर में जब भी भोजन ग्रहण करने की बात आती है तो भोजन के प्रारम्भ में तीखे खाते हैं और अंत में मीठे खाते हैं।

वैज्ञानिक तर्क: तीखा खाने से हमारे पेट के अंदर पाचन तत्व एवम् अम्ल सक्रीय हो जाते हैं। इससे पाचन ठीक तरह से संचालित होता है। अंत में मीठा खाने से अम्ल की तीव्रता कम हो जाती है। इससे पेट में जलन नहीं होती है।

५. व्रत रखना

मान्यता: किसी भी पूजा पाठ में लोगों की व्रत रखने की आस्था है। यह भी लोग मानते हैं कि व्रत रखने से भगवान प्रसन्न होते हैं और पूजा सफल होते हैं।

वैज्ञानिक तर्क: आयुर्वेद के अनुसार व्रत रखने से पाचन क्रिया अच्छी होती है और शरीर के ख़राब तत्व बाहर निकलते हैं।

६. सूर्य नमस्कार करना

मान्यता: सुबह उठकर सूर्य को जल चढ़ाना सेहत के लिए अच्छा होता है। चूँकि सूर्य को लोग भगवान मानते हैं इसलिए सूर्य को जल चढ़ाकर उनकी पूजा अर्चना करने का भी विधान है।

वैज्ञानिक तर्क: सूर्य नमस्कार करते समय जल चढ़ाते हैं और पानी के बीच से आने वाली सूर्य की किरणें जब आँखों में पहुँचती हैं तो इससे हमारी आँखों की रोशनी अच्छी होती है।

आशा है कि आप इन हिंदू मान्यताओं और सदगुणों को अपनाकर अपना जीवन सफल बनायेंगे।

loading...