काम के कारण न ही समय पर खाना और न सोना हो पाता है। जीवनशैली में इतना अधिक बदलाव होने के कारण मानव कई रोगों का शिकार होता जा रहा है। इनमें से एक रोग मधुमेह / डायबिटीज़ भी है जो बहुत तेज़ी से लोगों को अपना शिकार बना रहा है। इस रोग से बचने के लिए जीवनशैली में सुधार करें। सही समय पर पौष्टिक आहार ग्रहण करें। जिससे इसे प्रभावी रूप से नियंत्रित किया जा सके। इस बीमारी में रक्त में शर्करा का स्तर उच्च हो जाता है जिसके कारण शरीर की इन्सुलिन उत्पादन क्षमता प्रभावित होती है या शरीर प्रभावी रूप से इन्सुलिन का उपयोग नहीं कर पाता। मधुमेह को नियंत्रित रखने के लिए कई औषधियां उपलब्ध हैं जो मधुमेह रोग में रामबाण की तरह काम करती है। अगर मधुमेह रोगी इनका सेवन करें तो वह मधुमेह / ब्लड शुगर को नियंत्रित कर सकता है।

मधुमेह रोग डायबिटीज रोग

मधुमेह रोग में लाभकारी कुछ घरेलू औषधियां

1. लहसुन

किचन में उपलब्ध होने वाला लहसुन डायबिटीज रोगी के लिए बहुत ही लाभकारी है। क्योंकि लहसुन में पोटैशियम अधिक मात्रा में पाया जाता है। मधुमेह रोगी के मूत्र से बड़ी मात्रा में पोटैशियम शरीर से बाहर निकल जाता है। ऐसे में इस कमी को पूरा करने के लिए लहसुन का सेवन ज़रूर करें। साथ ही लहसुन के प्रयोग से यह रक्त में चीनी की मात्रा को कम करता है। जिससे मधुमेह रोग को नियंत्रित करने में मदद मिलती है।

2. हल्दी पाउडर

हल्दी पाउडर में करेले का रस मिलाकर सुखा लें। अब प्रतिदिन सुबह सुबह आधा चम्मच इस चूर्ण को जल के साथ सेवन करने से रक्त से शर्करा निकल जाएगी। जिससे मघुमेह रोगियों को बहुत ही लाभ मिलेगा।

3. मेथी दाना

सुबह सुबह मेथी दाना को फांक कर पानी पी लीजिए या फिर रात में 1 चम्मच मेथी दाना को भिगों दें और सुबह इसे भीगे हुए पानी के साथ पी जाएं। मेथी दाना के सेवन से मधुमेह रोगी को कुछ ही दिनों में ज़बरदस्त लाभ मिलेगा।

4. ढाक / पलाश

ढाक के फूलों का रस का 1/2 चम्मच सुबह शाम सेवन करने से भी मधुमेह रोगी को लाभ मिलता है।

5. बेल के पत्ते

सुबह शाम लगभग 15 बेल के पत्ते जबाने से या फिर बेल के पत्तों का रस पीने से भी मधुमेह रोगियों को आराम मिलती है।

मधुमेह रोग में लाभकारी कुछ फल व सब्ज़ियां

1. करेला

करेला रक्त में शर्करा की मात्रा को कम करने में सहायक है। यदि छोटे देशी करेलों का 1 गिलास जूस बनाकर निराहार सेवन करें तो इससे मधुमेह रोग पर कंट्रोल होगा। इसके अलावा करेला को सुखाकर इसका चूर्ण बना लें और प्रतिदिन 5 ग्राम चूर्ण का सेवन पानी के साथ करने से भी मधुमेह रोगियों को भी बहुत फ़ायदा प्राप्त होता है।

2. आँवला

सूखे आँवलों का चूर्ण बना लें तथा जामुन की गुठली को सुखाकर चूर्ण बना लीजिए। फिर सुबह शाम गाय के दूध के साथ 1/2 चम्मच जामुन की गुठली का चूर्ण और 1/2 चम्मच आंवले का चूर्ण का सेवन करें। कुछ ही दिनों में इससे ज़बरदस्त लाभ प्राप्त होगा।

3. जामुन

जामुन मधुमेह रोग के लिए एक रामबाण औषधि है। जामुन में कार्बोहाइड्रेट, विटामिन, प्रोटीन, वसा और कैल्शियम जैसे कई पोषक तत्व पाए जाते है। इसके अलावा इसमें जम्बोलिन नमक पदार्थ पाया जाता है जो मधुमेह में बहुत लाभकारी है। अतः मधुमेह रोगी को जामुन की गुठली के चूर्ण का नियमित सेवन करना चाहिए।

4. टमाटर

टमाटर एंटीऑक्सीडेन्ट से भरपूर है जो मधुमेह रोगियों के शरीर में खून की कमी को दूर करता है तथा शरीर को रोगों से लड़ने की शक्ति प्रदान करता है। साथ ही शर्करा की मात्रा को धीरे धीरे कम करके मधुमेह नियंत्रित करता है।

5. गाजर

मधुमेह रोग से ग्रसित लोगों के लिए गाजर का रस बहुत ही लाभकारी है क्योंकि इसमें इन्सुलिन विद्यमान है। यदि शुगर लेवल बढ़ गया है तो गाजर के 1 गिलास रस में 1 कप करेले का रस मिलाकर दिन में 2 बार पीने से बहुत ही लाभ मिलता है। इसके अलावा गाजर के 1 गिलास रस में 1/2 कप आंवले का रस मिलाकर दिन में 2 बार पीने से फ़ायदा मिलेगा।

इनके अलावा तुलसी, नीम, दालचीनी आदि का सेवन भी मधुमेह रोगी के लिए बेहद लाभकारी है।

मधुमेह रोग में योग

– मधुमेह रोगी को अगर इस रोग व कई अन्य रोगों से छुटकारा पाना है। तो वो एक बेहतर जीवन शैली अपनाए। साथ ही 5 किलों मीटर टहलें।

– इसके अलावा भस्त्रिका, कपालभाति, अनुलोम-विलोम, मयूरासन, भुजंगासन, शशांकासन और हलासन को करना चाहिए। इन्हें करने से मधुमेह रोगी को न केवल इस रोग से बल्कि कई अन्य रोगों से भी छुटकारा मिल सकता है। इसीलिए सभी लोगों को नियमित योग ज़रूर करना चाहिए।

Keywords – Madhumeh Rog, Diabetes Disease