पुदीने में कई औषधीय गुण होते हैं। सिरदर्द हो रहा हो या पेट में कोई तकलीफ़ हो, पुदीना फ़ायदेमंद होता है। हिचकी आना भी बंद हो जाती है। इसकी चटनी भी बहुत स्वादिष्ट होती है। यहीं नहीं सौंदर्य निखार के लिए भी पुदीना कारगर है। तो आइए आज हम पुदीने के इन्हीं औषधीय गुणों के बारे में बताते हैं –

पुदीने के फ़ायदे

पुदीने के लाभ ही लाभ

बात पते की – पुदीना अच्छे एंटीबायोटिक की तरह भी काम करता है

घाव भर जाएगा

पुदीने का रस किसी घाव पर लगाने से घाव जल्दी भर जाते हैं। यह चर्म रोगों को भी ख़त्म करने में मदद करता है। चर्म रोग होने पर पुदीने के पत्तों का लेप लगाने से आराम मिलता है।

ऑयली स्किन पर फ़ेशियल

अगर आपकी त्वचा ऑयली है, तो पुदीने का फ़ेशियल आपके लिए सही रहेगा। इसको बनाने के लिए दो बड़े चम्मच ताजा पीसे पुदीने के साथ दो बड़े चम्मच दही और एक बड़ा चम्मच ओटमील लेकर गाढ़ा घोल बनाएं। इसे चेहरे पर दस मिनट तक लगाएं और चेहरे को धो लें।

साफ़ हो जाएगी आवाज़

पुदीने के रस को नमक के पानी के साथ मिलाकर कुल्ला करने से आवाज़ साफ़ होती है। गर्मी में जी मिचलाए तो एक चम्मच सूखे पुदीने की पत्तियों का चूर्ण और आधी छोटी इलाइची के चूर्ण को एक गिलास पानी में उबालकर पीने से फ़ायदा होता है।

हिचकी में फ़ायदा

पुदीने का रस काली मिर्च व काले नमक के साथ चाय की तरह उबालकर पीने से जुकाम, खांसी व बुखार में राहत मिलती है। पुदीने की पत्तियां चबाने या उनका रस निचोड़कर पीने से हिचकियां बंद हो जाती हैं।

मज़बूत हड्डियां

इसमें मौजूद फ़ाइबर कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करता है और मैगनीशियम हड्डियों को ताक़त देता है। उल्टी होने पर आधा कप पुदीना रोगी को पिलाएं। फ़ायदा होगा। इसकी पत्तियों का रस नींबू-शहद के साथ लेने से पेट की बीमारियों में आराम मिलता है।

डॉक्टरी सलाह

पुदीना बहुत ठंडा होता है और यह डाइजेशन की प्रॉब्लम को दूर कर देता है। यह पेट के कीड़ों को भी मार देता है।
-विजय सेठ, आयुर्वेदिक डॉक्टर, विवेकानंद पॉलिक्लिनिक

loading...