आर्थराइटिस में सेब का सिरका प्रयोग करने का तरीक़ा

शरीर के किसी भी हिस्से में दर्द का होना बेहद असहनीय होता है। अक्सर लोग छोटे छोटे दर्द को नज़रअंदाज़ कर देते हैं। लेकिन जब इन छोटे छोटे छोटे दर्द के प्रति हम सजग नहीं होते तो ये दर्द बड़े बड़े रोग बन जाते हैं। ऐसे ही दर्द में एक दर्द ज्वाइंट पेन का होता है, यह बेहद असहनीय होता है। असहनीय जोड़ों का दर्द को आर्थराइटिस या संधि शोथ भी कहते हैं। आर्थराइटिस यह कई प्रकार का होता है। यह हमारे शरीर के गर्दन से लेकर पैर तक के किसी भी हिस्से को बेहद प्रभावित करता है।

यदि आप भी आर्थराइटिस से बेहद परेशान है और अगर आप इस असहनीय दर्द से छुटकारा चाहते हैं। आज हम आपको एक ऐसा घरेलू उपाय बताने जा रहे हैं, जिसे अपनाकर आप इस दर्द से छुटकारा पा सकते है।

आर्थराइटिस का दर्द

सेब का सिरका

आपको जब भी यह दर्द महसूस हो तो आप एप्पल साइडर विनेगर यानि सेब का सिरका उपयोग करें। यह इस दर्द से छुटकारा पाने का एक अचूक उपाय है।

एप्पल साइडर विनेगर संक्षेप में एसीवी भी कहते हैं। सेब के सिरके में कैल्शियम, पोटैशियम, आयरन आदि पोषक तत्व पाए जाते है। जो त्वचा के पोषण के लिए बेहद ज़रूरी हैं। इसका उपयोग हम सौंदर्य निखारने के लिए, घाव व सूजन को कम करने के लिए तथा डाइट में शामिल कर स्वास्थ को लाभ भी प्रदान कर सकते हैं।

आर्थराइटिस के दर्द सेब के सिरके का प्रयोग

1. जोड़ों का दर्द

आपको जब भी अपने जोड़ों में दर्द हो रहा हो, तब आप थोड़ा सा सेब का सिरका दर्द वाली जगह पर लगा लें। इससे आपको राहत मिलेगी। अगर आप 2 चम्मच एसीवी और 1 चम्मच ऑलिव आयल या नारियल के तेल को मिलाकर हल्के हल्के हाथों से रोज़ मालिश करेंगे, तो कुछ दिनों में न केवल जोड़ों के दर्द से आराम मिलेगा बल्कि वह काफ़ूर हो जायेगा।

2. गर्दन का दर्द

अगर दर्द गर्दन में हो रहा हो तो आप इस सेब के सिरके को 6 कप गुनगुने पानी में मिलाकर इसमें एक कपड़ा भिगो लें और उसे दर्द की जगह लगा लें, आपको थोड़े समय में लाभ महसूस होने लगेगा।

सेब के सिरके के अन्य उपयोग –

यह आपकी हेल्थ के लिए बेहद लाभप्रद होता है। यह शरीर से टॉक्सिन को कम करता है। 125 ग्राम चेरी जूस में 1 से 3 चम्मच ऐप्पल साइड विनेगर मिलाकर पीने से स्वास्थ्य लाभ मिलता है। इसे दिन में 3 बार सेवन करें। इसे आप अपने सलाद में या तेल के रूप में भी उपयोग कर सकते हैं।

Previous articleगालों पर गुलाबी निखार लाने के घरेलू उपाय
Next articleबॉडी मसाज के तरीक़े और उनके फ़ायदे