एस्पेरेगस खाने के 5 स्वास्थ्य लाभ

बसंत ऋतु के मौसम में एस्पेरेगस / सतावर / Asparagus / शतावरी की खेती की जाती है और दुकानों पर भी बिकने लगती है। बसंत ऋतु का समय नई शुरुआत के लिए होता है, एस्पेरेगस ऐसी सब्ज़ी जिसे इस मौसम में बहुत पसंद किया जाता है। एस्परैगस न केवल स्वादिष्ट होता है, बल्कि इसमें बहुत से स्वास्थ्यवर्धक गुण होते हैं। इस आलेख में हम शतावरी के गुण और फायदे जानेंगे।

हरी एस्पेरेगस या शतावरी
Green Asparagus

एस्पेरेगस खाने के फायदे

1. पोषक तत्वों से भरपूर

एस्पेरेगस फ़ाइबर, फ़ोलेट, विटामिन ए, सी, ई और के, के साथ-साथ क्रोमियम का अच्छा स्रोत है। क्रोमियम एक प्रकार का ट्रेस मिनिरल है जो इंसुलिन की खून से कोशिकाओं तक ग्लूकोज ले जाने की क्षमता को बढ़ाता है।

2. कैंसर रोधक

शतावरी, एवोकैडो, केल गोभी और ब्रसल्स स्प्राउट्स का मिलाकर खाना चाहिए। इसमें ग्लुताथाइन जो कैंसर पैदा करने वाले कार्सिनोगेंस कम्पाउंड और दूसरे हानिकारक फ्री रेडिकल्स को तोड़ देते हैं, और उन्हें डीटॉक्सीफाइ करते हैं। इसलिए एस्परैगस खाने से हड्डी, ब्रेस्ट, कोलन, लेरिंक्स और लंग कैंसर के खिलाफ़ हमारी शारीरिक सुरक्षा प्रणाली मज़बूत होती है।

3. एंटीऑक्सीडेंट्स का स्रोत

कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाने वाले फ्री रेडिकल्स को न्यूट्रिलाइज़ करने के अदभुत गुण के कारण एस्पेरेगस को टॉप फल और शाक की लिस्ट में रखा गया है। प्रारम्भिक स्तर के शोध से पता चलता है कि इसमें जवान बनाये रखने वाले गुण होते हैं।

White Asparagus, Lemon & Kale
White Asparagus, Lemon & Kale

4. दिमागी ताकत बढ़ाए

स्वादिष्ट एस्पेरेगस बुढ़ापे के खिलाफ लड़ने का दूसरा गुण है कि यह उम्र के साथ घटती याददाश्त को रोकता है। एस्परैगस / शतावरी में फ़ोलेट होता है, जो (मछली, मुर्गी, अंडे, मीट और दुग्ध उत्पाद में पाए जाने वाले) विटामिन बी 12 के साथ खाने पर भूलने की बीमारी का इलाज करता है।

टफ़्ट्स यूनिवर्सिटी के शोध के अनुसार बूढ़े व्यक्ति जो फ़ोलेट और विटामिन बी 12 का पर्याप्त मात्रा में सेवन करते हैं, उनकी सोचने और याद रखने की क्षमता बढ़ जाती है। इसलिए 50 साल से बूढ़े व्यक्तियों को वाइटमिन बी12 पर्याप्त मात्रा में लेना चाहिए, जिससे बुढ़ापा धीमे आए।

5. प्राकृतिक डायुरेटिक

एस्परैगस में एमीनो एसिड एस्पैरेजिन का उच्च स्तर होता है, जो एक प्राकृतिक मूत्रवर्धक है। इसका सेवन करने से पेशाब ज़्यादा आती है और शरीर से अतिरिक्त साल्ट्स बाहर निकल जाते है। यह इडीमा, हाइ ब्लडप्रेशन और दूसरी हार्ड डिसीज़ के रोगियों के लिए बहुत लाभकारी है।

एस्पेरेगस खाने से पेशाब की तेज़ गंध आती है, यह उनमें मौजूद अनोखे कम्पाउंड के कारण होता है, जो पेशाब में एक अलग गंध पैदा करता है।

ताज़े शतावरी में इस यौगिक की उच्च सांद्रता होती है, इसलिए इसे खाने के बाद पेशाब से गंध अधिक आती है। कुछ लोग इस गंध को सल्फ़्यूरिक यौगिक की गंध समझ लेते हैं, लेकिन घबराने की बात नहीं है। जो लोग एस्परैगस खाते हैं, उन्हें इस गंध की पहचान रहती है।

Roasted Purple Asparagus
Roasted Purple Asparagus

एस्पेरेगस का सेवन

सामान्य रूप से शतावरी हरे रंग की होती है, लेकिन सुपर मार्केट में सफेद और बैंगनी एस्परैगस भी मिलती है। सफेद एस्पेरेगस उगाना कठिन है और बैंगनी एस्पेरेगस छोटा और फल के स्वाद वाला होता है। इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता है कि आप किस तरह की एस्पेरेगस पसंद करते हैं? एस्परैगस स्वादिष्ट और अनोखी शाक है जिसे कई तरह से पकाकर या सलाद के रूप में प्रयोग कर सकते हैं।

इसे पकाते समय एंटीऑक्सीडेंट को सुरक्षित रखना आना चाहिए, ताकि यह स्वास्थ्यवर्धक बना रहे।

एस्परैगस को रोस्ट, ग्रिल या स्टिर-फ्राई करना चाहिए। बिना पानी के झटपट पकाने का यह तरीका इसके पोषक तत्व और एंटीऑक्सीडेंट को सुरक्षित रखते हैं।

Previous articleकिवी फ्रूट खाने के 14 कारण
Next articleकरवाचौथ के लिए मेकअप टिप्स