आज अधिकतर लोग सफेद चावल का सेवन करते हैं। लेकिन सफेद चावल का सेवन करने के बजाय भूरे रंग के चावल (ब्राउन राइस) का सेवन करना चाहिए। ब्राउन राइस को बटुआ या छिलके वाला चावल भी कहा जाता है। इसके सेवन से आपको स्वास्थ्य लाभ प्राप्त होगा। भूरे रंग का चावल यानि ब्राउन राइस में प्रोटीन, फाइबर, मैग्नीशियम, मैंगनीज, फास्फोरस, कैल्शियम, सेलेनियम, पोटेशियम, लौह तत्व और जिंक भी पाया जाता है। इसके अलावा ब्राउन राइस में विटामिन बी 1, विटामिन बी 2, विटामिन बी 3, विटामिन बी 6, विटामिन ई और विटामिन के अच्छी मात्रा में पाया जाता है। जो आपकी सेहत के लिए अत्यंत फ़ायदेमंद है। तो आइए ब्राउन राइस के अनगिनत फ़ायदों के बारे में जानते हैं…

भूरे चावल

ब्राउन राइस के लाभ

1. मधुमेह

एक शोध के अनुसार सफेद चावल खाने वालों की तुलना में भूरे रंग का चावल खाने वाले व्यक्तियों के रक्त में शुगर का स्तर कम पाया गया है। ऐसा इसीलिए है क्योंकि भूरे रंग के चावल में फीटिक एसिड, पोलीफेनॉल्स एवं फाइबर की अधिक मात्रा पाई जाती है जिस वजह से भूरे रंग का चावल सेवन करने वाले लोग मधुमेह रोग के ख़तरे से बचे रहते हैं।

2. कैंसर

आप अपने आहार में ब्राउन राइस को शामिल करें। क्योंकि भूरे रंग के चावल के सेवन से आप स्तन कैंसर, पेट के कैंसर व अन्य कैंसर रोग से बचे रहते हैं। भूरे रंग के चावल में मौजूद फाईटोन्यूट्रीएंट्स, सेलेनियम व कुछ अन्य तत्व स्तन कैंसर और अन्य कैंसर रोग से लड़ने में मदद करते हैं। जिससे आप कैंसर रोग के ख़तरे से बचे रहते हैं।

3. कोलेस्ट्रॉल

ब्राउन राइस घुलनशील फाइबर से परिपूर्ण है जो हानिकारक कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है। साथ ही यह हाई कोलेस्ट्रॉल के स्तर को भी बढ़ाने में भी सहायक है।

4. हृदय रोग

सफेद चावल की अपेक्षा भूरे रंग का चावल हेल्थ के लिए ज़्यादा अच्छा है। ब्राउन राइस में फाइबर की अधिकता होती है जिस कारण से यह हृदय रोग से बचाता है और आपको अच्छा स्वास्थ्य प्रदान करता है।

5. रोग प्रतिरोधक क्षमता

ब्राउन राइस के सेवन से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। जिससे आपके शरीर को बीमारियों से लड़ने की शक्ति मिलती है और आपका शरीर अनेक बीमारियों से सुरक्षित रहता है। इसके अलावा यह उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को भी धीमा कर देता है।

पके ब्राउन राइस

6. वज़न नियंत्रिण

सफेद चावल खाने से वज़न बढ़ता है जबकि ब्राउन राइस खाने से वजन कंट्रोल रहता है। क्योंकि इसमें उच्च मात्रा में फाइबर पाया जाता है जो आपके पेट को भरा रखता है और आप अधिक खाने से बच जाते हैं।

7. कब्ज़ और अपच

ब्रॉउन राइस में फाइबर की अधिकता होने के कारण यह पाचन तंत्र को ठीक रखता है और आप गैस, कब्ज़ और अपच की समस्या से बचे रहते हैं।

8. मजबूत हड्डियां

ब्राउन राइस मैग्नीशियम का एक अच्छा स्रोत है जो कि हड्डियों को मजबूत बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। रोजाना शरीर को जितनी मैग्नीशियम की मात्रा की ज़रूरत होती है, उसका 21% मैग्नीशियम एक कप ब्राउन राइस में पाया जाता है। एक शोध के अनुसार शरीर में मैग्नीशियम की कमी की वजह से हड्डियों के घनत्व में कमी आ सकती है और गठिया एवं ऑस्टियोपोरोसिस जैसी बीमारियों का खतरा बढ़ सकता है। मैग्नीशियम के अलावा, विटामिन डी और कैल्शियम भी हड्डियों के विकास के लिए जरूरी होता है। इसीलिए ब्रॉउन राइस, पनीर और दूध आदि का सेवन करें ताकि हड्डियां मजबूत बनी रहें।

9. शिशुओं के लिए उत्तम आहार

ब्राउन राइस पोषक तत्वों से युक्त होता है। इसीलिए यह बढ़ते बच्चों के लिए बहुत ही पौष्टिक आहार है। यह बच्चों में शीघ्र विकास को बढ़ावा देता है और उन्हें सेहतमंद बनाए रखने में मदद करता है।

10. अस्थमा

ब्राउन राइस में मैग्नीशियम और सेलेनियम की अधिक मात्रा पाई जाती है इसलिए यह अस्थमा के लक्षणों को कम करने में मदद करता है और आप दमा रोग से बचे रहते हैं।

11. स्वस्थ तंत्रिका तंत्र

ब्राउन राइस में फाइबर, मैग्नीशयम, मैग्नीज और विटामिन्स पाए जाते हैं। जिससे ब्राउन राइस तंत्रिका तंत्र के अच्छे स्वास्थ्य के लिए फैटी एसिड्स एवं हॉर्मोन्स का उत्पादन करता है और तंत्रिका तंत्र स्वस्थ रहती है। जिससे आपका स्वास्थ्य अच्छा बना रहता है।