सिजेरियन ऑपरेशन के बाद इंफेक्शन से बचाव

पर्यावरण, परिवेश, जीवनशैली और खानपान बदलने के कारण सिजेरियन ऑपरेशन इन दिनों आम बात हो गई है। जब बच्चा होने की निर्धारित तारीख बीत जाती है तो भी डॉक्टर सिजेरियन डिलीवरी कराने की सलाह देते हैं। इसे सी सेक्शन यानि सिजेरियन सेक्शन भी कहते हैं। आज कल कई कारणों से नॉर्मल डिलीवरी की बजाय सिजेरियन ऑपरेशन महिलाओं की पसंद बन गया है। सी-सेक्शन के बाद पेट के टांके ठीक होने में समय लगता है, ऐसे वक्त में देखभाल की बहुत जरूरी है। आइए आपको संभावित संक्रमण से बचाव करने के तरीके बता रहे हैं।

सिजेरियन ऑपरेशन सिजेरियन डिलीवरी सी सेक्शन

सिजेरियन ऑपरेशन के बाद सावधानी

1. भारी काम न करें

सी सेक्शन या सिजेरियन डिलीवरी के बाद देखभाल बहुत जरूरी है, इसलिए घर-बाहर के भारी काम करने से बचना चाहिए। ज्यादा मेहनत वाले कामों से घाव पर जोर पड़ता है, जिससे वह फिर हरा हो सकता है। इसलिए आराम पर पूरा ध्यान दें।

2. संतुलित आहार का सेवन

अक्सर महिलाएं जानना चाहती हैं  कि ऑपरेशन के बाद क्या खाना चाहिए। सिजेरियन सेक्शन के घाव जल्दी भरने और इंफेक्शन से बचाव के लिए महिला को विटामिन सी युक्त चीजें खानी चाहिए। ब्रोकली, पालक, साग, हरी मटर, संतरा, आड़ू, मौसमी, खुबानी आदि को आहार में शामिल करें।

3. घाव पर पानी न पड़े

पेट में टांकों वजह से महिला को कुछ दिनों तक नहाना नहीं चाहिए, ताकि घाव पानी से बचा रहे। इसके बजाय गीले तौलिए से बदन पोंछना अच्छा उपाय है। पानी घाव में इंफेक्शन होने का मुख्य कारण है।

4. टांकों की जांच

ऑपरेशन से बच्चे को जन्म दिया हो यानि सी सेक्शन करवाया हो तो नियमित रूप टांके जांचते रहें। डॉक्टर जैसा बताए, वैसा ही करना चाहिए। हो सकता है कि टांके आपको न दिखें, तब आप अपने घर में किसी की मदद ले सकती हैं। इससे इंफेक्शन के खतरे को टाला जा सकता है। सिजेरियन डिलीवरी करवाने पर खून के थक्के जैसी कई समस्याएं इंफेक्शन का कारण हो सकती हैं।

सिजेरियन के बाद निशान रह जाते हैं, जिसके उपाय भी हमारी साइट पर मौजूद हैं। आप उन्हें जरूर आजमाएं।

Previous articleरूसी या डैंड्रफ दूर करने के घरेलू उपाय
Next articleसुगंधित मोमबत्ती के नुकसान