भरतीय व्यंजनों में रसगुल्ला, काला जामुन, छेना, जलेबी, मीठी बूंदी, बूंदी के लड्डू , इमरती और चाशनी वाली गुजिया आदि इन सबके लिए हमें चाशनी बनाने की ज़रूरत पड़ती है। इन सबको बनाने के लिए एक तार, दो तार या तीन तार की चाशनी की आवश्कता पड़ती है।

अक्सर इन मिठाइयों या स्वीट डिश को बनाने के लिए हमें चाशनी बनानी नहीं आती, जिससे इन मिठाइयों को हम लोग घर पर बनाने से हिचकते हैं। अब हिचकने की ज़रूरत नहीं है, क्योंकि आज हम आपको सभी तरह की चाशनी बनाने की विधि और किस मिठाई में किस तरह की चाशनी का उपयोग करते हैं, ये सब बताने जा रहे हैं, ताकि अब बेफ़िक्र होकर इन्हें बनाएं और इनके रसीले स्वाद का लुत्फ़ उठा सकें।

एक, दो और तीन तार वाली चाशनी

चाशनी बनाने के लिए टिप्स - Chashni preparation

आवश्यक सामग्री

चाशनी बनाने के लिए हमें किचन में निम्न सामान की ज़रूरत होगी…

चीनी – 2 कटोरी
फिटकरी – एक चुटकी
पानी – 1 कटोरी

चाशनी बनाने की विधि

1. चाशनी बनाने के लिए गैस चूल्हे पर एक बर्तन में चीनी और पानी को डालकर इसमें उबाल आने दें।

2. जब इस मिश्रण में उबाल आने लगे तब इसमें एक चुटकी फिटकरी डाल दें।

3. फिटकरी मिलाने से चाशनी एक दम साफ़ बनती है। फिटकरी मिलाने से चाशनी के ऊपर कुछ झाग तैरने लगेंगे। उन्हें कलछुन कि सहायता से निकाल कर हटा देंगे, फिटकरी डालने से चीनी की गंदगी ऊपर आ जाती है।

4. इसे लगभग 10 मिनिट तक पकाएं।

एक तार वाली चाशनी –

चाशनी तैयार हो चुकी है या नहीं इसे चेक करने के लिए चम्मच से 2 बूंद चाशनी को किसी कटोरी में निकाल लें और उंगली और अंगूठे के बीच रखकर चिपकाइए, अगर चाशनी में 1 तार बनने लगे तो हमारी एक तार की चाशनी बनकर तैयार है।

दो तार वाली चाशनी –

दो तार की चाशनी बनाने के लिए इसी चाशनी को लगभग 5 मिनट और पका लें और निरीक्षण कर लें। 2 बूंद चाशनी को ऊँगली और अंगूठे के बीच रखकर चिपकाएं अगर इसमें 2 तार बनने लगे तो 2 तार की चाशनी बनकर तैयार।

तीन तार वाली चाशनी –

तीन तार की चाशनी बनाने के लिए इसी चाशनी को लगभग 5 मिनट और पकाएं और फिर इसका निरीक्षण कर लें। अगर इसमें तीन तार बनने लगें। तो तीन तार की चाशनी बनकर तैयार।

5. चाशनी को चलनी से छान कर बाउल में डाल लेंगे, अब इस चाशनी में इलायची पाउडर डाल दें। आप चाहें तो इसमें केसर को भी डाल सकते हैं।

विभिन्न प्रकार की चाशनी का उपयोग

एक तार की चाशनी का उपयोग

काला जामुन, गुलाब जामुन, मीठी बूंदी, जलेबी, शाही टोस्ट और इमरती को बनाने में किया जाता है।

दो तार वाली चाशनी का उपयोग

गुझिया, मठरी और शकर पारे को बनाने के लिए किया जाता हैं।

तीन तार वाली चाशनी का उपयोग

बर्फी बनाने के लिये, बताशे बनाने के लिये, इलाइची दाने आदि को बनाने के लिये किया जाता हैं।

Keywords – Chashni Recipe, Chashni Preparation, Sugar Syrup