छिलकों के गुण जिन्हें जानकर आप हैरान हो जायेंगे

ज़्यादातर लोग घरों में फल व सब्ज़ियों का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन उनके छिलके को बेकार समझकर फेंक देते हैं। छिलकों के गुण जानकर तो आप चकित हो जाएंगे। छिलकों में बहुत सारे फ़ाइटो केमिकल्स पाये जाते हैं। जो शरीर की रोग प्रतिरोधी क्षमता को बढ़ाते हैं और आपको स्वस्थ रखते हैं। सब्ज़ियों के छिलकों में अघुलनशील फ़ाइबर होता है, जो पेट साफ़ रखने में मदद करता है। लेकिन छिलकों को इस्तेमाल में लाने से पहले उचित साफ़ सफ़ाई का भी ध्यान रखें। फल को काटने से पहले कुछ देर पानी में भिगोकर रखें। फिर साफ़ पानी से धोकर इन्हें काटें।

छिलकों के गुण और उनसे फ़ायदे –

सेब का छिलका

सेब के छिलकों के गुण

सेब में फ़्लेवोनाइड्स जैसी एंटी ऑक्सीडेंट्स, पोटेशियम व फ़ाइबर भरपूर मात्रा में होता है। जो कैंसर सेल्स पर अच्छा प्रभाव डालता है। इसके छिलके में पैक्टिन नाम का घुलनशील फ़ाइबर भी होता है। जो लो ब्लडप्रेशर और कोलेस्ट्रोल को बैलेंस में रखता है। छिलके सहित सेब खाने से त्वचा व मसूड़े भी स्वस्थ रहते हैं।

संतरे का छिलका

संतरे के छिलकों के गुण

जब छिलकों के गुण की बात आती है तो संतरे के छिलकों में बीस फ़ीसदी ज़्यादा फ़्लेवोनाइड्स एन्टीऑक्सीडेंट पाये जाते हैं।  इसका छिलका कोलेस्ट्रॉल का स्तर घटाकर हार्ट अटैक और स्ट्रोक के खतरे को कम भी करता है। संतरे के अंदर वाले सफेद हिस्से में एन्टीऑक्सीडेंट पाया जाता है। जो कोलेस्ट्रॉल व रक्तचाप को और इसमें मौजूद पैक्टीन तत्त्व शुगर को सामान्य रखता है। अगर आप ये सोच रहें कि इनके छिलकों को कैसे इस्तेमाल में लाएँ? तो इसका भी उपाय है। केक, जूस और शेक बनाने में आप संतरे के छिलकों का उपयोग कर सकते हैं।

आलू का छिलका

आलू के छिलकों के गुण

फ़ाइबर युक्त आलू के छिलका भोजन पचाने में मददगार है। जिससे फ़ैट भी नहीं बढ़ता है। लेकिन अगर आप आलू का इस्तेमाल बिना छिलके के करेंगे तो इसके फ़ायदों से वंचित रह जायेंगे। आलू के छिलकों में फ़ाइबर के अलावा आयरन, पोटेशियम और विटामिन बी पाये जाते हैं। इसीलिए आलू को अच्छी तरह से धोकर छिलके सहित प्रयोग में लाएँ।

केले का छिलका

केले के छिलकों के गुण

केले का छिलका तनाव घटाने, मूड सुधारने और नकारात्मक विचारों से निजात दिलाने में मददगार होता है। इसमें मौजूद ल्युटेनिंन एंटी ऑक्सीडेंट आँखों की कोशिकाओं को अल्ट्रावॉयलेट विकिरणों के दुष्प्रभावों से बचाने का काम करती है। अतः जब भी केले के छिलकों को इस्तेमाल में लायें, सबसे पहले केले को साफ़ पानी से धो लें। फिर छिलके के ऊपर और नीचे का कड़ा भाग काटकर अलग करें और उसे पानी में भिगोयें। छिलका जब मुलायम हो जाये, तो उसे पीस लें। इसमें आटा व शक्कर मिलाकर गूँथ लें और मीठी रोटी बनायें।

आप ज़रूर ही इन छिलकों के गुण जानकर पूरा लाभ उठायेंगे और अपने मित्रों से भी शेअर करेंगे।

Previous articleझाइयों का उपचार करने के लिए अपनाएँ घरेलू उपाय
Next articleचेहरे की झुर्रियाँ हटाना एवं त्वचा की देखभाल