अक्सर जॉब वाली लड़कियों की जब शादी हो जाती है तो ऑफ़िस के व्यस्त शेड्यूल और ससुराल के नये सदस्यों के बीच उचित संतुलन बना पाना उनके लिए थोड़ा मुश्किल होता है। कभी कभी तो ऑफ़िस के काम के ज़्यादा बोझ के तले आप इतनी ज़्यादा तनाव में आ जाती हैं कि ये तनाव लेकर आप घर चली जाती हैं और ससुराल में तनाव युक्त रहने से रिश्ते बिगड़ने के चांसेज बने रहते हैं। इसलिए इन रिश्तों को प्यार से संभालने के लिए, घर और ऑफ़िस के बीच उचित संतुलन बनाना बेहद ज़रूरी है।

घर और ऑफ़िस का काम

घर और ऑफ़िस के बीच बैलेंस

तो पेश है घर और ऑफ़िस के बीच संतुलन उचित संतुलन बनाने के लिए कुछ ख़ास टिप्स

  1. घर और ऑफ़िस दोनों के बीच संतुलन बनाना बेहद ज़रूरी है। बस एक सही तरीक़ा अपनाकर आप तनाव मुक्त होकर दोनों के बीच अच्छे से संतुलन बना सकती हैं।
  2. शादी से पहले अपने ससुराल वालों को जॉब और व्यस्त शेड्यूल के बारे में ज़रूर बतायें ताकि उन्हें आपके साथ और आपको उनके साथ सामंजस्य बनाने में समस्या न हो।
  3. अगर आपकी जॉब ऐसी हो जिसमें आपको बाहर ट्रैवल करना पड़ता हो तो इस विषय में अपने ससुराल वालों को पहले से ज़रूर बता दें, ताकि वे आपके जॉब शेड्यूल के अनुसार ख़ुद को ढाल सकें।
  4. घर पर अन्य कामों के लिए नौकरानी रख लें और परिवार को अपनी समस्याओं से भी ज़रूर रूबरू करायें ताकि वे आपकी समस्या को आसानी से समझ सकें।
  5. परिवार का साथ माँगें और उनके साथ अपने अच्छे व्यवहार करके अच्छे सम्बन्ध बनायें।
  6. संभव हो तो अपना काम का स्टाइल बदल दें और अपने घर वालों को भी इसमें शामिल करने की कोशिश करें। इससे आप और आप के परिवार के बीच मधुर रिश्ते बनेंगे।
  7. मोबाइल में एक ऐसा प्लानर तैयार कर रिमाइंडर बनायें, जिससे ऑफ़िस की महत्वपूर्ण तिथियाँ, डिटेल्स और आयोजन इत्यादि के बारे में जानकारी नोट हो। इससे समय की बचत भी होगी और ऑफ़िस के ज़रूरी काम भी याद रहेंगे।
  8. ऑफ़िस का तनाव घर पर कभी न लायें, बल्कि घर पर तनावमुक्त रहें और अपने आपको भी समय दें। कोशिश करें कि जब छुट्टी का दिन हो तो उस दिन अपने और अपने परिवार के लिए समय रखें और समय व्यतीत करें। कोशिश करके परिवार के साथ बाहर घूमने या पिकनिक का कार्यक्रम भी ज़रूर बनायें। इससे परिवार के साथ समय बिताने पर आप अपने नए रिश्ते को समय भी दे पायेंगी और उन्हें समझ भी पायेंगी।
  9. घर के कुछ कामों को पहले से कर लें ताकि ऑफ़िस से घर लौटने आप पर ज़्यादा काम का भार न पड़े।
  10. परिवार के साथ कॉम्युनिकेशन लगातार बनायें रखें और उन्हें अपने व्यवहार से संतुष्ट रखें, जिससे वे सहज रह सके।
  11. घर के काम को बोझ न समझें। इसके लिए समय निकालें और आप अपनी ज़िम्मेदारी को ज़रूर निभायें।
  12. किसी तीसरे के सामने अपने परिवार की बुराई कभी न करें और न ही अपने परिवार के प्रति किसी भी प्रकार की ग़लतफ़हमी को पालें। बल्कि रिश्तों को समय दें, उन्हें समझने की पूरी कोशिश करें।
  13. अगर शुरू से ही हर चीज़ प्लान करके चलेंगी तो कभी भी समस्याओं से रूबरू नहीं होना पड़ेगा।

इन बातों को ध्यान में रखकर न केवल आप अपने रिश्तों को संभाल सकती हैं बल्कि रिश्तों को समझ कर उन्हें और भी मजबूत बना सकती हैं।

loading...