आपको जीवन में ख़ुश रहने के लिए कुछ बातें बुरी आदतों की तरह छोड़ देनी चाहिए। ऐसा करके न आपको केवल सच्ची ख़ुशी मिलेगी बल्कि आपकी आपकी आत्मा भी शुद्ध होगी। मन और अंत:करण की शुद्धि से बढ़कर भी जीवन में दूसरा कौन सा काम है! आइए जाने कौन सी बातें हमें दुख देती हैं, और उनका निराकरण क्या है?

जीवन में ख़ुश रहना

जीवन में ख़ुश रहने के टिप्स

1. तुलना

आपको दूसरों से अपनी तुलना नहीं करनी चाहिए। दूसरों की सफलता से अपनी तुलना करना दुख का पहला कारण है। इसकी बजाय आपको यह देखना चाहिए कि पिछले एक साल में आपने जीवन में कितना हासिल किया। इसके बाद आपके क्या करना, इसकी तैयारी करनी चाहिए।

2. थकान

दिन भर थका-थका रहने का कारण क्या है? इसके लिए आपको समय पर सोना चाहिए। नहाना चाहिए। पढ़ना चाहिए। खोलना चाहिए। सोते समय प्रकृति की मधुर आवाज़ें सुननी चाहिए। आपको बिस्तर पर जाने के बाद थोड़ा समय अपने लिए रखना चाहिए। आराम करने से ज़्यादा जादुई और रहस्यमयी कुछ भी नहीं है। इसलिए इस शांति को जीवन में जगह देकर अपने आप को व्यवस्थित कीजिए।

3. क्षमा

अक्सर हम दूसरों से क्षमा की उम्मीद रखते हैं लेकिन हम दूसरों कितना माफ़ करते हैं? दूसरों को उनकी ग़लतियों के लिए सच्चे दिल से माफ़ कर देने से ख़ुद को बहुत सुकून मिलता है। इसलिए क्षमा करने की आदत डालनी चाहिए।

4. दोष

दोष की अनुभूति क़ातिल है। इसका मतलब है कि आप आज भी कल में जी रहे हैं। ख़ुद को ग़लती देना अस्वास्थ्यकर, अरचनात्मक और पूरी तरह अनावश्यक भावना है। इससे बहुत ज़्यादा मानसिक दबाव बन जाता है, जिससे डिप्रेशन भी आ सकता है।

5. पछतावा

आपको ऐसा मानना चाहिए कि आपने हमेशा सबसे अच्छा किया। आप उस स्थिति में जितना कर सकते थे, अपना बेस्ट देकर उस स्थिति को बदलने की कोशिश की। इसलिए कभी मन में ऐसा विचार न लाएँ, मैं इससे बेहतर कर सकता था, लेकिन कर नहीं पाया।

6. द्वेष

लम्बे समय तक दूसरों के लिए मन में शिकायत या द्वेष रखना बिल्कुल ठीक नहीं है। इसलिए मन में द्वेष रखने की बजाय उन्हें क्षमा कर दें। इससे आपको शांति पूर्वक जीवन व्यतीत करना सरल हो जाएगा। इससे जीवन में घुला ज़हर ख़त्म हो जाएगा।

7. अव्यवस्था

जो चीज़ें आपके पास हैं और आप उन्हें इस्तेमाल नहीं करते हैं। उनको दूसरों को दे देने से आपके पास सिर्फ़ काम की चीज़ें रह जाएंगी, जिससे आपका जीवन व्यवस्थित हो जाएगा।

इसी तरह आप अपनी बुकशेल्फ़, बाथरूम ड्राअर, इनबॉक्स, फ़ोन आदि पर काम करना चाहिए।

इन 7 बातों का ध्यान रखकर आप जीवन को ख़ुशियों से भर सकते हैं।