पालक पराठा बनाने की विधि

सुबह सुबह गरमागरम चाय के साथ पालक पराठा मिल जाए तो आप हो या हम ख़ुद को रोक नहीं पायेंगे। हर मौसम में इसका लुत्फ़ और स्वाद हर कोई लेना चाहता है। बच्चे हो या घर का कोई अन्य सदस्य, हर कोई इस स्वाद का जमकर मज़ा लेना चाहता है। आप भी इस स्वाद का जमकर लुत्फ़ उठाएं इसलिए आज हम आपको कुरकुरे पालक पराठे बनाने की विधि बताने जा रहे है। ये स्वाद और सेहत दोनों से भरपूर होते हैं।

इसमें प्रयुक्त सामग्री में पालक में विटामिन ए, बी-9, सी, ई, फ़ाइबर और बीटा कैरोटीन पाया जाता है। एक कप उबली हुई पालक मे 3.2 मिलीग्राम लौह तत्व पाया जाता हैं। पालक के नियमित सेवन से शरीर में ख़ून भी बढ़ता है। लहसुन मे विटामिन बी कॉम्प्लेक्स तथा खनिज तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। आइए पालक पराठा बनाने की रेसिपी सीखें।

पालक पराठा रेसिपी

पालक पराठा - Palak Paratha

आवश्यक सामग्री

पालक के पत्ते – 500 ग्राम बारीक कटे हुए
लहसुन की कली – 5
प्याज़ बारीक कटा – 1
हरी मिर्च बारीक कटी – 1/2 चम्मच
अदरक बारीक कटी – 1/2 चम्मच
सरसों – 1/2 चम्मच
भूना जीरा – 1/2 चम्मच
हींग – चुटकी भर
नमक – स्वादानुसार
तेल – 4 बड़े चम्मच

पालक पराठे बनाने के लिए

गेहूँ का आटा – 300 ग्राम
दूध/पानी – आवश्यकतानुसार

पालक पराठा बनाने की विधि

पालक फ़्राई करने की विधि

  1. गैस चूल्हा जलाकर उस पर कढ़ाही चढ़ाकर उसमें थोड़ा सा तेल गरम करें।
  2. अब उसमें प्याज, लहसुन, अदरक, सरसों, हींग, जीरा और हरी मिर्च डालकर फ़्राई कर लें, जब यह सुनहरा भुन जाए,
  3. तब इसमें नमक और पालक के बारीक़ कटे हुए पत्ते को कुछ देर तक फ़्राई कर लें।

पराठा बनाने की विधि

  1. एक बर्तन में गेहूँ का आटा, थोड़ा तेल, नमक और फ़्राई की हुई सब्ज़ियों को अच्छे से मिला लें और थोड़ा पानी डालकर आटे को अच्छे से गूँथ लें।
  2. गूँथे हुए आटे की लोई बनाकर उसे को गोल गोल बेल लें।
  3. अब बेले हुए पराठे को तवे पर डालकर इस पर थोड़ा तेल लगाकर दोनों तरफ़ सुनहरा होने तक सेंक लें। इसके जब
  4. यह एक तरफ़ से सुनहरा पक जाए तब पराठे को पलट कर दूसरी तरफ़ भी सेंक लें।
  5. जब पालक पराठा पक जाए तब इसे एक प्लेट मे निकालकर चटनी या अचार या दही के साथ सर्व करें।

आवश्यक टिप्स

पराठे हमेशा नॉन स्टिक पैन में पकाएं ताकि आप कम से कम तेल का इस्तेमाल कर सकें।
भरे हुए पराठे के आटे को यदि आप दूध से गूँथे तो इन पराठों का स्वाद और भी टेस्टी हो जायेगा ।

Previous articleआलू बथुआ पराठा बनाने की विधि
Next articleमेटाबॉलिज़्म और पोषण की जानकारी