सर्वांगासन

सर्वांगासन करने की विधि और लाभ

योग सकारात्मक रूप से जीने की कला सिखाता है। हमे कई प्रकार के रोगों से मुक्त कर स्वस्थ जीवन जीने का हुनर सिखाता है। योग नामक परम औषधि मन और शरीर दोनों को प्रभावित करती है तथा शरीर की सभी इन्द्रियों को नियंत्रित करती है। योग करने से मनुष्य शारीरिक रूप से स्वस्थ रहता है। जिससे उसका जीवन सरल और सुगम हो जाता है। योग में ऐसे कई आसन है जिन्हें करने से हमारे शरीर की कई व्याधियां दूर हो जाती हैं और हम एक स्वास्थ्य जीवन जी पाते हैं। तो आज हम एक ऐसे ही योग सर्वांगासन के बारे में जानेंगे।

सर्वांगासन

शरीर के सारे अंगों का व्यायाम एक साथ हो जाने के कारण ही इसे सर्वांगासन कहते हैं। यह आसन आँखों के लिए बहुत फ़ायदेमंद है। इसे करने से आंखों के आसपास की मांसपेशियों में रक्त संचार अच्छे से होता है, जिससे आंखों की रोशनी हमेशा बढ़िया बनी रहती है इसलिए इस आसन को ज़रूर करें।

सर्वांगासन

सर्वांगासन की विधि

1. इस आसन को करने के लिए दरी या चटाई बिछाकर पीठ के बल लेट जाएं।
2. अब दोनो पैरों को मिलाएं।
3. धीरे-धीरे सांस को लेते हुए पैरों को ऊपर की ओर उठाएं।ध्यान रहें इस क्रिया को करते समय पैर एक दम सीधे रहें।
4. अब छाती के भाग को ऊपर की ओर उठाएं।
5. इसके बाद अपने दोनों हाथों को कोहनी से मोड़कर कमर पर रखें। ध्यान रहे इस अवस्था में पूरे शरीर का भार कंधों पर रहना चाहिए।
6. इस स्थिति में पैरों को तान कर ऊपर की ओर रखें।
7. इसके बाद इस स्थिति में कुछ देर रुकें। फिर शरीर को ढीला छोड़कर घुटनों को मोड़कर धीरे-धीरे शरीर को हथेलियों के सहारे से सामान्य स्थिति में ले आएं।
8. इसके बाद कुछ देर आराम करने के बाद आप इस क्रिया को 3 बार करें।

सर्वांगासन के लाभ

1. यह आसन तनाव, थकावट आदि को दूर कर शरीर को स्वास्थ्य बनाता है।
2. यह भूख को बढ़ाता है तथा पेट से सम्बंधित सभी रोग को दूर कर पाचन क्रिया को मज़बूत बनाता है।
3. यह आसन आँखों के लिए बेहद लाभप्रद है।
4. इस आसन के नियमित अभ्यास से चेहरे की झुर्रियां दूर हो जाती है।
5. यह आसन शरीर से अतिरिक्तत चर्बी को कम कर मोटापा को दूर करता है।
6. शरीर को स्वास्थ्य बनाएं रखने के लिए यह आसन बेहद लाभप्रद है।
7. इस आसन के नियमित अभ्यास से चेहरे के कील-मुहांसे व दाग़ धब्बे दूर हो जाते है और चेहरे पर प्राकृतिक निखार आता है।
8. इस आसन के नियमित अभ्यास से सिर का दर्द दूर हो जाता है।
9. इस आसन को करने से मासिक धर्म की अनियमितता, बांझपन, ख़ून की कमी आदि समस्या भी दूर होती हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top