सेक्स के सपने में छुपे मनोवैज्ञानिक सच

नींद में कल्पनाओं की कोई उड़ान नहीं होती है, जिससे सपने किसी भी तरह के आ सकते हैं। जहाँ तक सेक्स के सपने की बात है तो हम ख़ुद को किसी के साथ भी सेक्स करते हुए देख सकते हैं। आप जिन लोगों के साथ ख़ुद को संभोग करते हुए देखते हैं वह आपकी मन और विचार से जुड़े हुए होते हैं, जिसके पीछे वैज्ञानिक कारण भी होते हैं।

कई लोग अपकी सेक्शूअल फ़ैंटेसीज़ को मन दबाकर रखते हैं, जिसकी वजह यह बातें उनके दिमाग़ में घूमती रहती हैं और जब वे सोने जाते हैं तो वही सब सपना बनकर बंद आँखों से देखने लगते हैं। सेक्स के सपनों पर किसी उम्र का कॉपीराइट नहीं होता है, कोई किसी भी उम्र में ऐसे सपने देख सकता है।

सेक्स के सपने और आप

सेक्स के सपने और आप

इस तरह के सपनों के पीछे मनोवैज्ञानिक कारण होते हैं, आइए उन्हीं के बारे में जानते हैं…

1. पूर्व प्रेमी प्रेमिका के साथ

सम्बंध बनते हैं टूटते हैं, लेकिन प्रेम की भावनाएँ दिल से इतनी आसानी से नहीं निकलती हैं। चाहे अनचाहे भी पूर्व प्रेमी प्रेमिका के साथ सेक्स के सपने आना आम बात है, ये वो पुरानी कामनाएँ और यादें होती हैं, जो हमारा पीछा नहीं छोड़ती हैं। इसका साफ़ साफ़ मतलब है कि आपके जीवन में इसकी कमी है। चाहे आप रिलेशन में हों या फिर सिंगल। इसलिए ऐसे सपने आने पर कोई बुरा विचार मन में न लाएँ।

2. अपने पार्टनर के साथ

अगर आप अभी अपने पार्टनर के साथ हैं और इंटीमेट रिलेशन का आनंद लेते हैं तो दो अर्थ हो सकते हैं, या तो आपको पूरी संतुष्टि नहीं रही है या फिर आप पार्टनर के साथ एक पल को भी अलग नहीं होना चाहते हैं। ऐसे स्वप्न आयें तो आपके अपने पार्टनर से उसे शेअर करना चाहिए।

3. अपने बॉस के साथ

प्यार कब आपको गिरफ़्तार कर लेगा किसी को पता नहीं होता है। अगर आप अपने बॉस को मन ही मन चाहने लगें तो आप उसके रोब की ओर आकर्षित हो रहे हैं।

सेक्स के सपने का सच

4. अपने फ़ेवरिट स्टार के साथ

जब आप अपने फ़ेवरिट स्टार के साथ सेक्स करते हुए ख़ुद को देखें तो इसका मतलब है कि आप अपने पार्टनर बहुत कुछ चाहते हैं। ये ज़रूरी नहीं है कि ये बस लुक तक सीमित हो, बल्कि उसकी स्टारडम और सक्सेस की भी चाहत हो सकती है।

5. किसी अंजान के साथ

अगर आपके सपनों में अजनबी आने लगे जिसे आप बिल्कुल भी नहीं जानते हैं तो यह आपमें अंसतुष्टि को दर्शाता है। ऐसा प्राय: तब देखने को मिलता जब रिश्तों में फ़ासले आने लगें और आप इन सबमें ख़ुद को अकेला महसूस करते हैं। ये भी हो सकता है कि आपका पार्टनर आपसे उतना नज़दीक़ नहीं है जितना आप उसे लाना चाहते हैं। बात चाहे फ़िज़िकल रिलेशन की हो या फिर इमोशनल सपोर्ट की।