सर्दियों के मौसम में त्वचा की देखभाल करना बेहद ज़रूरी हो जाता है, क्योंकि इस मौसम के शुरू होते ही होंठ और एड़ियों का फटना, बालों में डैन्ड्रफ़ का होना, त्वचा का रुखा होना जैसी समस्याएँ शुरू हो जाती हैं। इसलिए ज़रूरी है कि इनकी ख़ास देखभाल की जाए, ताकि इस मौसम में भी आपकी त्वचा खिली खिली सी लगे।

कोमल और चमकदार त्वचा के लिए सर्दी के मौसम में क्या ज़रूरी है और क्या नहीं, इससे जुड़े कुछ असत्य मान्यताओं और कुछ वास्तविकताओं के बारे में जानते हैं –

त्वचा की देखभाल के लिए ज़रूरी हैं सही जानकारी

सर्दियों में त्वचा की देखभाल कीजिए

1. साबुन या फ़ेसवॉश से त्वचा रूखी होती है

इस मौसम में आप जितनी बार साबुन या फ़ेसवॉश का इस्तेमाल कर अपनी त्वचा को क्लीन करती हैं, वह उतनी ही रूखी और बेजान हो जाती है। चूँकि क्लींजिंग करने से त्वचा का नैचुरल मॉइश्चर यानि प्राकृतिक नमी कम होती है। हाँ, इसकी जगह  आप त्वचा की देखभाल के लिए लेप का प्रयोग करें। लेप बनाने के लिए 2 चम्मच मिल्क पाउडर, दो चम्मच चोकर और थोड़ा पानी मिलायें, साबुन की जगह इस लेप का इस्तेमाल करने से त्वचा रूखी नहीं होगी। सरसों, बादाम या ऑलिव ऑयल के तेल से बॉडी की मसाज कर थोड़ी देर धूप सेककर गुनगुने पानी से नहा लेने न सिर्फ़ बॉडी की खुश्की दूर होती है, बल्कि ड्रायनेस भी ख़त्म होती है।

2. क्रीम का कम प्रयोग करने से त्वचा रूखी हो जाती है

क्रीम का कम व ज़्यादा प्रयोग करने से त्वचा की ड्रायनेस पर कुछ ख़ास प्रभाव नहीं पड़ता है। ठंड के कारण स्किन के भीतर ब्लड सर्कुलेशन स्लो हो जाता है, इससे बॉडी का टेंप्रेचर कम हो जाता है और बॉडी सीवम का प्रॉडक्शन कम करने लगती है। सीवम हमारी तेल ग्रंथियों से निकलने वाली एक ऑयली चीज़ है, जो हमारी स्किन को शाइनी और सॉफ़्ट बनाने में मदद करती है। सर्दियों में बॉडी टेंप्रेचर कम होने से सीवम डार्क हो जाता है और वह स्किन की आउटलेयर पर नहीं आ पाता, जिससे स्किन ड्राय हो जाती है। त्वचा की देखभाल के लिए इस बात का पूरा ध्यान रखना चाहिए।

3. लिपस्टिक लगाने से होंठ फ़टते नहीं

सर्दियों के मौसम में अक्सर होंठ फटते हैं लेकिन ऐसी कन्डीशन में लिपस्टिक का प्रयोग बिलकुल भी न करें। बल्कि ऐसे में पेट्रोलियम जेली या लिप क्रीम का प्रयोग करें। इसके अलावा एंटी सेप्टिक लिप बाम लगाना भी फ़ायदेमंद रहेगा।

4. बालों को हेल्दी बनाने के लिए रोजाना शैम्पू का प्रयोग करें

रोज़ाना शैम्पू करने से बाल हेल्दी नहीं बनते इसलिए ज़रूरी है कि सप्ताह में  दो बार उंगली के पोरों से बालों की जड़ों पर मसाज करें और फिर गरम पानी में कपड़ा डुबोकर स्टीम दें। जब भी बाहर निकलें, तो स्कार्फ़ ज़रूर पहनें। ठंड से बाल टूटने लगते हैं और दो मुंहे भी हो जाते हैं। इसलिए ज़रूरी है कि बालों को उचित पोषण दें। बालों को उचित पोषण देने के लिए नींबू, संतरा, कीवी, सेब का अधिक से अधिक सेवन करें। इस तरह से सर की त्वचा की देखभाल हो जाती है।

5.  सर्दी के ख़त्म होनें के बाद डैन्ड्रफ़ ख़त्म हो जाता है

मौसम चाहे सर्दी का हो या गर्मी का, अगर बालों की उचित देखभाल न की जाए तो डैन्ड्रफ़ ख़त्म नहीं होता बल्कि और बढ़ता जाता है। बालों को डैन्ड्रफ़ फ्री रखने के लिए कुछ बातों का ध्यान रखना बेहद ज़रूरी हैं।

बालों को धोने के बाद बार बार कंघी न करें, क्योंकि ऐसा करते हुए तेल ग्रन्थियां अधिक सक्रिय हो जाती हैं और इनसे अतिरिक्त तेल निकलता है। जो रूसी की वजह बनता है। सर्दियों में नारियल तेल के उपयोग से बचे क्योंकि यह सर्दियों में जम जाता है।

loading...