आँख हमारे शरीर का सबसे नाज़ुक भाग है जिसकी देखभाल हमें अवश्य करना चाहिए क्योंकि जब आँखे स्वस्थ रहेंगी तभी तो आप ख़ूबसूरत दुनिया को देख पायेंगे। आँखों की रोशनी में कम होना या चश्मा लगने का सबसे प्रमुख कारण आँखों की ठीक ढंग से देखभाल न करना, पोषक तत्वों की कमी, या अनुवांशिक कारण हो सकता है। इनमें से आनुवांशिक कारण को छोड़कर अन्य कारणों से लगा चश्मा सही देखभाल व सही खानपान से व घरेलू उपाय अपनाकर उतारा जा सकता है।

आँखों की रोशनी बढ़ाएँ

आँखों की रोशनी बढ़ाने के टिप्स

1. पैर के तलवों पर सरसों के तेल की मालिश करके सोयें। सुबह के समय नंगे पैर ही घास पर चलें। नियमित रूप से अनुलोम-विलोम और प्राणायाम करें। ऐसा करने से आपके आँखों की कमज़ोरी दूर हो जाएगी।

2. एक चने की दाल के बराबर फिटकरी के टुकड़े को ले लें। फिटकरी के टुकड़े को सेंककर 100 ग्राम गुलाब जल में डालकर रख लें। अब इस गुलाब जल की 4 से 5 बूंद नियमित अपनी आँखों में डालें। पैर के तलवों पर घी की मालिश करें, इससे चश्मे का नंबर भी कम हो जाता है।

3. आंवले के पानी से आँखें धोने से या गुलाब जल डालने से आँखें स्वस्थ रहती हैं।

4. बादाम की गिरी सौफ व मिश्री तीनों को समान मात्रा में मिला लें। रोज़ एक चम्मच इस मिश्रण को एक गिलास दूध के साथ रात को सोते समय लें।

5. आँखों के कोई भी रोग हो जैसे पानी गिरना, आँखों की दुर्बलता आदि होने पर रात को 8 बादाम भिगोकर सुबह पीस कर पानी में मिलाकर पी जाएँ।

6. बेलपत्र का 20 से 25 मिलीलीटर रस पीने और 3 से 5 बूंद आँखों में काजल की तरह लगाने से रतौंधी रोग में आराम मिल जाता है।

7. केला और गन्ना खाना आँखों के लिए बहुत लाभकारी है।

8. एक नींबू का एक गिलास पानी पीते रहने से जीवन भर नेत्र ज्योति बनी रहती है।

9. कनपटी पर गाय के घी से हल्के हाथों से मसाज रोज़ करने से आँखों की रोशनी बढ़ती है।

10. त्रिफला चूर्ण को रात्रि में पानी में भिगोकर सुबह छानकर उस पानी से आँखे धोने से नेत्र ज्योति बढ़ती है।

11. नींबू और गुलाबजल को समान मात्रा में मिलाकर बनाया गया मिश्रण एक-एक घंटे के अंतर पर आँखों में डालने से आँखों में ठंडक मिलती है।

12. हल्दी की गांठ को तुअर की दाल में उबालकर छाया में सुखाकर, पानी में घिसकर, सूर्यास्त से पहले दिन में दो बार आँख में काजल की तरह लगाने से आँखों की लालिमा दूर होती है और आँखे स्वस्थ रहती हैं।

इन उपायों को अपनाकर अपनी आँखों को स्वस्थ रखें। इन उपायों को आप स्वयं भी करें और अपने परिवार व मित्रों को भी बतायें ताकि इन उपायों को करके सभी लोग लाभ उठा सकें। आप अपने विचार और सुझाव हमें देना न भूलें।