अंग्रेजी भाषा में हलवा शब्द 1840-50 के बीच यहूदी हलवा से आया था। जिसका मतलब होता है – मीठी मिठाई। भारत में आज हलवा बहुत अधिक लोकप्रिय है। भारत में अलग अलग राज्यों में कई तरह का हलवा बनाया जाता है जैसे – गाजर का हलवा, मूंग दाल का हलवा, रवे का हलवा, छुहारे का हलवा आदि।

गाजर का हलवा एक मीठा पकवान है। जो आज हर एक पार्टी की शान है। दोस्त की शादी हो या किसी और की, गाजर का हलवा हर पार्टी की मेन्यू में शामिल हो चुका है। सर्दी में गरम गरम गाजर का हलवा मिल जाए तो खाने का मज़ा दोगुना हो जाता है।

Carrot Halwa / Gajar Ka Halwa – Hindi Recipe

गाजर का हलवा
तो आज हम इसी गाजर के हलवे को बनाने की विधि आपको बताने जा रहे हैं –

आवश्यक सामग्री / Ingredients

लाल गाजर – 1 किलो
दूध – 1.5 लीटर
चीनी – 4 कटोरी या स्वादानुसार
इलायची पाउडर – 1/4 छोटा चम्मच
काजू – 50 ग्राम (कटी हुआ)
पिस्ता – 25 ग्राम (कटा हुआ)
बादाम (कटी हुई) – 25 ग्राम
केसर (विकल्प के रूप में) – 5 से 6
घी – 1 छोटा चम्मच

गाजर का हलवा पकाने की विधि / Cooking Tips

1. सबसे पहले गैस चूल्हा जलाकर उस पर कढ़ाही चढ़ायें।
2. अब इस कढ़ाही में दूध को पकने के लिए रख दीजिए और दूध को धीमी धीमी आँच पर पकने दे। जब तक दूध पककर गाढ़ा हो।
3. तब तक आप गाजर को छीलकर साफ़ पानी से धुल लीजिए। यह ध्यान रखे कि गाजर की ऊपर की टिप न काटें क्योंकि इससे आपको गाजर कसने में आराम मिलेगी।
4. अब सारी गाजर को कद्दूकस में कस लीजिए।
5. सारी गाजर को कस लेने के बाद अब एक नॉन स्टिक कढ़ाही को गैस पर चढ़ायें। नॉन स्टिक कढ़ाही को इसलिए लीजिएगे ताकि गाजर का हलवा पकाते समय जले नहीं।
6. इस नॉन स्टिक कढ़ाही में एक चम्मच घी डालिए।
7. घी के गरम होने पर इसमें गाजर को डालकर थोड़ा पका लीजिए, इसमें आधा ग्लास दूध भी डाल दीजिए।
8. अब इसे धीमी धीमी आँच पर लगभग 20 मिनट तक पकायें। बीच बीच में इसे चलाते रहे।
9. आप देखेंगे कि पकते समय उसमें जो भी पानी था वो धीरे धीरे जलता जायेगा।
10. जब गाजर के हलवे का सारा पानी जलकर गाजर भुनने लगे। तब इसमें चीनी डाल दें और इलायची पाउडर भी डालिए।
11. जो आपने दूध पकाने के लिए रखा था वो भी थोड़ा गाढ़ा हो गया हो गया। उसे भी पकी हुई गाजर में डालिए।
12. अब गाजर को धीरे धीरे चलाते हुए पकाते रहिए।
13. ध्यान रखें इसे तब तक पकाना है जब तक कि इसमें मिला दूध सूख न जाए क्योंकि यदि यह गीला रह गया तो खाने में स्वाद भी नहीं आयेगा और जल्दी ख़राब भी हो सकता है।
14. हलवा पकाते समय यह ध्यान रखें कि इसे पकाते समय समय बहुत लगता है। आप बस धैर्य बनाए रहें, क्योंकि इसे पकाने में जितना समय लगता है, इसके पकने के बाद इसके स्वाद को चखकर आपकी सारी थकान दूर हो जाएगी।
15. जब गाजर के हलवे का सारा दूध सूख जाए तब इसमें कटे हुए काजू पिस्ता और बादाम मिला दीजिए।
16. थोड़े मेवे को सजाने के लिए ज़रूर रख लीजिए।

जब गाजर के हलवे का सारा दूध सूख जाये और ये थोड़ा फ्राई होने लगे तब गैस को बंद कर दीजिए। ध्यान रहे गाजर का हलवा जितने अच्छे से भुन जाएगा हलवा उतना ही स्वादिष्ट बनेगा। अब गरम गरम हलवे को कटोरी में निकाल लीजिए। इसे कटे मेवे से सजाए और केसर डालकर सर्व कीजिए।

Keywords: Gajar halwa, Carrot halwa, Gajar ka halwa