गर्मी में जब लोगों को बहुत प्यास सताती है तो अक्सर लोग नारियल पानी, जूस या शर्बत को पीते हैं, क्योंकि इनको पीने से आपकी प्यास बुझ जाती है और आपको ताज़गी भी मिलती है। किसी भी जूस को पीने से पहले यह ध्यान रहे कि आप हमेशा फ्रेश जूस ही पिएं क्योंकि फ्रेश जूस आपकी सेहत और स्वास्थ्य दोनों का ही उचित ध्यान रखता है। इसीलिए आज आपको संतरे का जूस बनाने की विधि और इसको पीने से होने वाले फ़ायदों के बारे में बताने जा रहे हैं। ताकि अब जब आप को प्यास बुझाने के लिए किसी ड्रिंक की ज़रूरत पड़े तो आप झटपट संतरे का जूस घर पर बना सके और अपनी प्यास बुझा सके।

संतरे का जूस बनाने की विधि

कुछ संतरे के छिलके को छीलकर जूसर की सहायता से जूस निकालकर छन्नी से छान लें। फिर इसके स्वाद को बढ़ाने के लिए एक चुटकी नमक या थोड़ी चीनी जूस में मिला दें। संतरे का जूस बनकर तैयार है। अब आप इस फ्रेश जूस के स्वाद का आनन्द उठाएं।

फ्रेश संतरे का जूस

संतरे का जूस पीने के फ़ायदे

१. घाव भरने में मददगार

संतरे का जूस पीने से चोट के घाव जल्दी भरते हैं क्योंकि संतरे के जूस में फोलेट नामक गुण पाया जाता है जोकि चोट के निशान व घाव भरने में मदद करता है।

२. चक्कर आने पर आराम

सिर में चक्कर आने पर संतरे के 200 ग्राम जूस में 50 ग्राम अनार का जूस मिलाकर पीने से चक्कर आना बंद हो जाता है और आपको बेहतर महसूस होता है।

३. शक्तिवर्धक

संतरे का जूस आपकी शारीरिक थकान को दूर कर आपको एनर्जी प्रदान करता है। इसीलिए संतरे का जूस ज़रूर पिएँ।

४. बीमारियों से बचाव

सन्तरे के जूस में विटामिन सी अधिक मात्रा में पाया जाता है। जिससे इसके सेवन से प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत बनती है और आप बीमारियों से बचे रहते हैं।

५. भूख वर्धक

भोजन में अरूचि होने पर या भूख न लगने पर संतरे और अनार के रस में काली मिर्च और सेंधा नमक मिलाकर पीने से भूख न लगने की समस्या दूर होती है।

६. बवासीर से आराम

बवासीर होने पर 1 गिलास संतरे के जूस में 10 किशमिश डाल कर खाने से बवासीर 15 दिनों में ठीक हो जाता है।

७. एसिडिटी या अम्लपित्त में लाभ

अम्लपित्त या एसिडिटी की समस्या होने पर संतरे के जूस में एक चुटकी भुना हुआ सफेद जीरा पाउडर और थोड़ा-सा सेंधा नमक डालकर पीने से अम्लपित्त की समस्या दूर होती है।

८. बदहजमी से छुटकारा

250 ग्राम संतरे के रस में काला नमक और अदरक का रस मिलाकर पीने से बदहजमी की समस्या से निजात मिलता है।

९. उच्च रक्तचाप पर नियंत्रण

संतरे में मैग्नीशियम और पोटैशियम की अधिक मात्रा होती है, इसलिए उच्च रक्तचाप से पीड़ित व्यक्ति संतरे का जूस का सेवन ज़रूर करें।

१०. हृदय रोग में लाभ

हार्ट प्रॉब्लम से पीड़ित व्यक्ति को 1 गिलास संतरे के जूस में 1 चम्मच शहद मिलाकर सेवन करना चाहिए। इससे हार्ट प्रॉब्लम मरीज़ को लाभ मिलता है।

११. कैंसर से बचाव

संतरे के जूस में एण्टीऑक्सीडेंट की अधिक मात्रा में पाई जाती है। इसीलिए रोज़ाना जूस का सेवन करने से आप कैंसर व अन्य बीमारियों से बचे रहते हैं।

१३. टैनिंग से बचाव

कड़ी धूप के कारण हमारी त्वचा झुलस जाती है, जिससे त्वचा पर टैनिंग हो जाती है। टैनिंग से बचने के लिए 1/2 चम्मच संतरे के रस में 1 छोटा चम्मच दही व 1 चम्मच मुल्तानी मिटटी मिक्स कर पूरे चेहरे, गर्दन व हाथों पर लगाए। इससे आपको कुछ ही दिनों में टैनिंग से छुटकारा मिल जायगा।

आवश्यक सावधानियां

– संतरे के जूस में कैलोरी अधिक मात्रा में होती है इसलिए इसका सेवन अधिक मात्रा में ना करें।

– खाना खाने के तुरंत बाद या खाना खाने से तुरंत पहले संतरे का जूस का सेवन नहीं करना चाहिए।

– एसिडिटी के मरीज़ों को संतरे के जूस का सेवन नहीं करना चाहिए।

loading...