ग्रीन टी पीने के फायदे और नुकसान

मोटापा कम करने, चेहरे और बालों की सुंदरता बढ़ाने के साथ-साथ ग्रीन टी ब्लड शुगर, कैंसर, हृदय रोग, अल्जाइमर जैसी कई बीमारियों के लिए रामबाण औषधि है। हरी चाय पीने से आपके आपकी याददाश्त को नई ताकत मिलती है। ग्रीन टी में मौजूद कैफीन आपको दिमागी शक्ति देता है और रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। इस लेख में आप ग्रीन टी पीने के फायदे और नुकसान जानेंगे।

शरीर को स्वस्थ और तंदरुस्त रखने के लिए आप काली चाय की जगह हरी चाय का सेवन करें। जिससे आपको कई प्रकार के फायदे मिलेंगे।

ग्रीन टी क्या है

हरी चाय यानि ग्रीन टी को कमीलिया साइनिसिस (Camellia Sinensis) की पत्तियों को सुखाकर तैयार किया जाता है।

ग्रीन टी के फायदे और नुकसान

ग्रीन टी बनाने की विधि

आज कल हम सभी काली चाय में दूध मिलाकर सेवन करते हैं। हममें से अधिकतर लोग अपने दिन की शुरुआत चाय से करते हैं। ज़रूरत से ज़्यादा चाय पीने पेट में गैस, कब्ज़ और पेट की दूसरी कई समस्याएं होने लगती हैं।

ग्रीन टी 2 प्रकार से बाज़ार में उपलब्ध है।

1. खुली पत्तियों वाली हरी चाय

2. टी बैग वाली ग्रीन टी

– एक भगोने में 1 कप पानी उबालें।
– इसमें खुली पत्तियों वाली हरी चाय आधा चम्मच डालकर 2 मिनट तक पकायें, फिर कप में छान लें।
– अगर आप ग्रीन टी बैग का प्रयोग करते हैं तो खाली कप में 1 टी बैग रखकर ऊपर से गरम पानी डालें।
– ग्रीन टी तैयार है, आप इसमें चीनी, मिसरी, गुड़ या शहद मिलाकर सेवन कर सकते हैं।
– ग्रीन टी में इलायची पाउडर डालकर स्वाद और सुगंध बढ़ायी जा सकती है।

ग्रीन टी के 12 फायदे

ग्रीन टी पीकर आप आगे बताई बीमारियों से बच सकते हैं।
ग्रीन टी के फायदे

1. कैंसर

हरी चाय पीने से कैंसर की कोशिकाओं का बढ़ने की गति कम हो जाती है। नियमित सेवन से कैंसर होने के चांसेज न के बराबर रहते हैं। मुँह, पेट और ब्लैडर के कैंसर में हरी चाय बहुत फायदेमंद है। महिलाओं के मामलों में यह उन्हें स्तन कैंसर से भी बचाती है।

2. सौंदर्य निखार

ग्रीन टी में एंटी एजिंग गुण होते हैं जो आपकी त्वचा की रंगत को निखारते हैं। नियमित हरी चाय पीने से चेहरे पर झुर्रियाँ नहीं पड़ती हैं। त्वचा का ढीलापन नहीं आता है, जिससे चेहरे का निखार बना रहता है।

3. तनाव

तनावमुक्त होने के लिए आप ग्रीन टी का सेवन करें। साथ ही ग्रीन टी की खुली पत्तियों को सिर के पास रखकर सोयें। इनकी खुशबू से आपको आराम मिलेगा।

4. ब्लड शुगर

ग्रीन टी पीन से खून में ग्लूकोज की मात्रा कंट्रोल रखती है। इससे इंसुलिन के इंजेक्शन से होने वाला साइड इफेक्ट कम हो जाता है।

5. हृदय रोग

हरी चाय में मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट मेटाब्लिज़्म बढ़ता है, जिससे कोलेस्ट्रोल कंट्रोल होता है। इससे रक्त संचार बढ़िया बना रहता है। हरी चाय पीने वालों को हार्ट अटैक आने की संभवना कम रहती है, क्योंकि यह खून को पतला करके खून का थक्का बनने से रोकती है।

6. बढ़ता वज़न

डायटिंग, व्यायाम और योग करने के साथ-साथ वज़न कम करने के लिए ग्रीन टी भी पीना फायदेमंद होता है। इससे पाचन शक्ति बढ़ती है। इसमें मौजूद कैफीन कैलोरी बर्न करने में मदद करता है। रात को सोने से 1 घंटे पहले ग्रीन टी पीने से पेट की चर्बी कम होती है।

संबंधित लेख –

7. रोग प्रतिरोधक क्षमता

ग्रीन में एंटी ऑक्सीडेंट और विटामिन सी होता है, जो शरीर के फ्री रेडिकल्स को बाहर निकालने और शरीर की इम्यूनिटी को बढ़ाने का काम करते हैं। इससे शरीर रोग मुक्त बनता है। दिन में 3 कप हरी चाय का सेवन लाभकारी होता है।

8. ब्लड प्रेशर

बीपी कंट्रोल करने में ग्रीन टी के फायदेमंद है। इसे पीने से 50% तक उच्च रक्तचाप की समस्या घट जाती है।
खुली पत्तियों वाली हरी चायसंबंधित लेख

9. पैरों की बदबू

इस्तेमाल की हुई ग्रीन टी को पानी में कुछ देर भिगो दें। इसके बाद 15 मिनट के लिए अपने पैर इस पानी में रखें। इससे पैरों की बदबू मिट जाएगी।

10. बालों की समस्याएं

ग्रीन टी को पानी में उबालकर ठंडा कर लें। इस पानी से अपने बालों को धोएं। यह पानी कंडीशनर की तरह काम करता है, जिससे आपके बाल सुंदर बन जाते हैं।
संबंधित लेख –

11. स्टेमिना में कमी

लगातार काम करके थकान और स्टेमिना में कमी आती है। अगर आप बीच बीच में हरी चाय का सेवन करेंगे तो आपके शरीर को खोई हुई शक्ति वापस मिल जाएगी। जिससे आप तरोताज़ा महसूस करेंगे।
संबंधित लेख –

12. मुँह की बीमारियाँ

मुँह की बदबू, पायरिया, माउथ कैंसर जैसी बीमारियों के लिए ग्रीन टी अचूक औषधि है। यह मुँह के नुकसानदेह बैक्टीरिया को नष्ट करके उसे इंफ़ेक्शन से दूर रखता है। हरी चाय पीने से दांतों का पीलापन चला जाता है। साथ ही मसूढ़े भी स्वस्थ रहते हैं।
संबंधित लेख –

ग्रीन टी पीने के नुकसान

– भूख में कमी

– इसमें कैफीन होने से नींद कम आती है

– छोटे बच्चों को ग्रीन टी न पिलाएं। इससे भूख कम लगती है और उनके कम खाने से उन्हें पूरा पोषण नहीं मिलता है।

– जिन महिलाओं को गर्भधारण की इच्छा हो वे ग्रीन टी का सेवन न करें। इसमें आयरन और फोलिक एसिड कम होता है।

हरी चाय के नुकसान

ग्रीन टी पीने का सही टाइम

अक्सर लोग जानना चाहते हैं कि ग्रीन टी कैसे पिए या ग्रीन टी पीने का सही समय क्या है । तो आज हम आपको बता रहे हैं कि ग्रीन टी कब पीनी चाहिए ।

– सुबह खाली पेट
– खाना खाने के बाद
– रात को सोने से 1 घंटे पहले
– दिन में 3 कप हरी चाय पिएं

सावधानियाँ

ग्रीन टी में कैफीन की मात्रा अधिक होती है, इसलिए ज़रूरत से ज़्यादा हरी चाय न पिएं। सीमित मात्रा में हरी चाय का सेवन करें तभी आप इसका पूरा लाभ ले पाएंगे।